Home खेल अमित शाह बोले- जेटली ने संकट में बड़े भाई की तरह उबारा,...

अमित शाह बोले- जेटली ने संकट में बड़े भाई की तरह उबारा, यह नहीं सोचा कि लोग क्या कहेंगे

  • Hindi News
  • Sports
  • Statue Of Late Arun Jaitley Installed At Feroz Shah Kotla Stadium On His Birth Anniversary

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

नई दिल्ली10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में दिवंगत अरुण जेटली की प्रतिमा का अनावरण किया। कहा कि जेटली संसद में तर्कों के साथ अपनी बात रखते थे।

दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में दिवंगत अरुण जेटली की प्रतिमा का अनावरण किया गया। गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्व वित्त मंत्री जेटली की प्रतिमा का अनावरण किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, ‘जेटली जी मुझसे उम्र में बड़े थे, जब मैं संकट में पड़ा तो उन्होंने बड़े भाई की तरह मुझे उबारा। लोग क्या कहेंगे, इस बात को छोड़कर मेरी मदद की।’

भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री रहे जेटली 1999 से 2013 तक DDCA के अध्यक्ष रहे। उनके बाद रजत शर्मा DDCA प्रेसिडेंट बने। उन्होंने इस्तीफा दिया तो जेटली के बेटे रोहन को बिना विरोध अध्यक्ष चुना गया।

‘जेटली जी हर सवाल का सटीक जवाब देते थे’
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, ‘जेटली जी मोदी के अनन्य साथी रहे। जेटली जी तर्कों के साथ संसद में बात रखते थे। भारत की आर्थिक गति तेज करने का काम उन्होंने किया। सालों तक संसद में गुजरात का प्रतिनिधित्व किया। लोगों को साथ लेकर चले। जेटली जी बहुत तार्किक नेता थे। हर सवाल का सटीक जवाब देते थे।’

‘पर्दे के पीछे रहकर IPL का मजबूत ढांचा बनाया’
अमित शाह ने कहा, ‘जेटली जी ने पर्दे के पीछे रहकर IPL का मजबूत ढांचा बनाया। एक समय था जब बच्चा क्रिकेट खेलने जाता था तो माता-पिता कहते थे कि पढ़ाई कौन करेगा। आज बच्चे क्रिकेट को करियर बना रहे हैं। क्रिकेट में दो तरह का योगदान होता है। एक- जो खेलकर देश को सम्मान दिलाते हैं। दूसरे वे जो खेलने के लिए माहौल बनाते हैं। जेटली जी ने खेल के लिए माहौल बनाया।’

जेटली की मूर्ति को लेकर हुआ था विवाद
बता दें कि कुछ दिन पहले अरुण जेटली की मूर्ति लगाए जाने से नाराज पूर्व स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने दिल्ली डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन (DDCA) छोड़ दी थी। बेदी का कहना था कि जेटली चापलूसों से घिरे रहते थे। वे काबिल नेता जरूर थे, लेकिन एक गूगल सर्च से पता चल जाएगा कि जेटली के वक्त DDCA में कितना करप्शन हुआ। नाकामियों को भुलाया जाता है, इस तरह प्रतिमा लगाकर नाकामियों का जश्न नहीं मनाया जाता।

बेदी बोले- स्टेडियम का नाम बदला तो लगा कि कुछ अच्छा होगा
जेटली का पिछले साल 24 अगस्त को निधन हो गया था। इसके बाद 12 सितंबर 2019 को फिरोज शाह कोटला स्टेडियम का नाम बदलकर अरुण जेटली स्टेडियम कर दिया गया था। इस बारे में बेदी ने रोहन जेटली को लिखी चिट्‌ठी में कहा, ‘जब जल्दबाजी में कोटला स्टेडियम का नाम बदलकर अरुण जेटली स्टेडियम किया गया, तब उम्मीद थी कि कुछ अच्छा होगा, लेकिन मैं गलत था। अब सुन रहा हूं कि वहां उनकी एक प्रतिमा लगाई जाएगी। मैं इससे बिल्कुल राजी नहीं हूं।’

Source link

Most Popular

उस तानाशाह को अमेरिका ने फांसी दी, जिसने अपने ऊपर हुए हमले के बाद 148 लोगों को मरवा दिया था

Hindi NewsNationalToday History: Aaj Ka Itihas India World 30 December Update | ISRO Scientist Vikram Sarabhai Death Saddam Hussein Hanging FactsAds से है परेशान?...

शाहिद कपूर ने पूरी की फिल्म 'जर्सी' की शूटिंग, टीम के साथ केक कट कर किया सेलिब्रेट

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपएक महीने पहलेएक्टर शाहिद कपूर ने अपनी अपकमिंग फिल्म 'जर्सी' की...

2019 में 88 लाख यात्रियों से रेलवे काे मिले 81.64 करोड़, इस साल 86 लाख यात्री घटे; सिर्फ 3.22 कराेड़ कमाए

Hindi NewsLocalMpGwaliorRailway Received 81.64 Crore From 88 Lakh Passengers In 2019, 86 Lakh Passengers Decreased This Year; Earned Only 3.22 CroresAds से है परेशान?...