Home खेल स्पॉट फिक्सर हत्यारे के समान, वह दोबारा खेलने लायक नहीं, उसे फांसी...

स्पॉट फिक्सर हत्यारे के समान, वह दोबारा खेलने लायक नहीं, उसे फांसी दे देनी चाहिए: जावेद मियांदाद

  • पाकिस्तानी बल्लेबाज जावेद मियांदाद ने 1992 वर्ल्ड कप फाइनल में 98 गेंद पर 58 रन की अहम पारी खेली थी
  • मियांदाद ने कहा- स्पॉट-फिक्सर को फांसी देकर उदाहरण स्थापित करें, ताकि कोई ऐसा कुछ करने के बारे में न सोचे

हलचल टुडे

Apr 04, 2020, 11:14 AM IST

खेल डेस्क. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने क्रिकेट में स्पॉट फिक्सिंग करने वालों को फांसी की सजा देने की बात कही है। उन्होंने शुक्रवार को यूट्यूब चैनल पर कहा, ‘‘स्पॉट फिक्सिंग में लिप्त खिलाड़ियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। जैसे किसी की हत्या करना गंभीर अपराध है, वैसे ही यह भी माफी लायक जुर्म नहीं है। स्पॉट फिक्सिंग करने वालों को फांसी दे दी जानी चाहिए। उन्हें दोबारा क्रिकेट खेलने का अधिकार नहीं होता है।’’

मियांदाद ने कहा, ‘‘स्पॉट-फिक्सर को फांसी देकर एक उदाहरण स्थापित किया जाना चाहिए ताकि कोई भी खिलाड़ी ऐसा कुछ करने के बारे में न सोचे। ये बातें हमारे धर्म (इस्लाम) की शिक्षाओं के खिलाफ हैं। हम सभी को उसी के अनुसार व्यवहार करना चाहिए। पीसीबी (पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड) उन्हें माफ करके सही नहीं कर रहा है। स्पॉट-फिक्सर को वापस लाने वालों को खुद पर शर्म आनी चाहिए।’’

‘स्पॉट-फिक्सर इंसानियत के दुश्मन हैं’
पूर्व पाकिस्तानी कप्तान ने कहा, ‘‘जो खिलाड़ी स्पॉट फिक्सिंग कर सकते हैं, वे अपने माता-पिता और परिवार के प्रति ईमानदार नहीं होते हैं। यदि वे ईमानदार होते तो ऐसा गलत काम कभी नहीं करते। ऐसे लोग इंसानियत के भी दुश्मन होते हैं, जिन्हें जीने का हक नहीं होता। यह खिलाड़ी पैसा कमाने के लिए भ्रष्टाचार में शामिल होते हैं। बाहर होने के बाद ये अपने कनेक्शन का इस्तेमाल कर फिर टीम में आ जाते हैं।’’

‘पीएसएल मैचों का सट्टेबाजी कंपनियों की वेबसाइट पर सीधा प्रसारण होता है’
हाल ही में मियांदाद ने एक इंटरव्यू में कहा था कि पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) के मैचों का सट्टेबाजी कंपनियों की वेबसाइट पर सीधा प्रसारण होता है। उन्होंने कहा था, ‘‘पाकिस्तान क्रिकेट खेलने वाला देश है। उसने कई घोटालों और समस्याओं को सामना किया है। सट्टेबाजी के कारण पाकिस्तान ने अपने कई अच्छे खिलाड़ियों को गंवाया है। इसलिए पीएसएल के मैचों का सट्टेबाजी कंपनियों की वेबसाइट पर सीधा प्रसारण मामूली बात नहीं है। इसकी जांच बोर्ड के बाहर निष्पक्ष तरीके से होनी चाहिए, क्योंकि पीसीबी के ही कुछ अधिकारी इससे मिले हैं।’’

1992 वर्ल्ड कप फाइनल में मियांदाद-इमरान ने की 139 रन की साझेदारी
मियांदाद ने 1992 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान की जीत में अहम भूमिका निभाई थी। फाइनल में पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 6 विकेट पर 249 रन बनाए थे। इसके जवाब में इंग्लैंड 227 रन पर ही सिमट गई थी। मैच में पाकिस्तान के दो विकेट 24 रन पर ही गिर गए थे। इसके बाद इमरान और मियांदाद ने तीसरे विकेट के लिए 139 रन की अहम साझेदारी की थी। मैच में इंजमाम उल हक ने 46 गेंद पर 42 रन और वसीम अकरम ने 18 गेंद पर 33 रनों की पारी खेली थी। जबकि अकरम और मुश्ताक अहमद ने 3-3 विकेट लिए थे। मियांदाद ने पाकिस्तान के लिए 124 टेस्ट में 8832 और 233 वनडे में 7381 रन बनाए हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

4 साल की बच्ची ने गाया 'वंदे मातरम'; पीएम मोदी ने कहा- हमें आप पर गर्व है

2 घंटे पहलेकॉपी लिंकएस्तेर ने 25 अक्टूबर को अपने ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर वंदे मातरम गाना अपलोड किया था।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मिजोरम की रहने...

घोटालेबाजों से लेना चाहिए पैसा, तीन कंपनियों ने किया है 82,000 करोड़ देने का ऑफर

Hindi NewsBusinessLoan Repayment: Kapil Wadhawan DHFL Finance And Other Three Companies Offers Rs 82,000 Croresमुंबई2 घंटे पहलेलेखक: अजीत सिंहकॉपी लिंकडीएचएफएल ने 43 हजार करोड़...

पैदल 15 किमी. का जंगल पार कर पढ़ने जाती हैं लड़कियां, सोनू सूद का ऐलान- हर लड़की तक साइकिल पहुंच रही है

10 घंटे पहलेकॉपी लिंकलॉकडाउन में हजारों प्रवासी मजदूरों के लिए बसों का अरेंजमेंट करने वाले सोनू सूद अब लड़कियों को साइकिल बांटने जा रहे...

मंत्री उषा ठाकुर को थमाया नोटिस, मदरसे वाले बयान पर मांगा जवाब, ठाकुर ने कहा था सारा कट्टरवाद, सारे आतंकवादी मदरसे में पले-बढ़े

इंदौर6 घंटे पहलेकॉपी लिंकचुनाव प्रचार के दौरान नेताओं द्वारा बोले जा रहे शब्दों को लेकर भारत निर्वाचन आयोग ने एक बार फिर संज्ञान लिया...