Home खेल हॉकी वर्ल्ड कप विजेता अशोक दीवान अमेरिका में फंसे, भारत से मदद...

हॉकी वर्ल्ड कप विजेता अशोक दीवान अमेरिका में फंसे, भारत से मदद मांगी; 1976 ओलिंपिक में खेल चुके

  • कोरोनावायरस के कारण भारत में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन और वीजा पर प्रतिबंध लगा है
  • चेस टूर्नामेंट खेलने गए विश्वनाथन आनंद भी जर्मनी में फंसे, खुद को आइसोलेशन में रखा

हलचल टुडे

Apr 09, 2020, 04:54 PM IST

नई दिल्ली. कोरोनावायरस के कारण दुनिया की एक तिहाई आबादी घरों में कैद है। भारत में भी 14 अप्रैल तक लॉकडाउन और वीजा प्रतिबंध लगा है। ऐसे में भारत के पूर्व हॉकी खिलाड़ी अशोक दीवान (65) अमेरिका में फंस गए हैं। दीवान ने भारतीय ओलिंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष नरेंद्र बत्रा से मदद की गुहार लगाई है। वे 1976 ओलिंपिक गेम्स और 1975 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य भी रह चुके हैं। दीवान हाई ब्लड प्रैशर के कारण अमेरिका के अस्पताल में भर्ती थे। उन्हें 20 अप्रैल को भारत आना है, लेकिन ऐसा संभव होता नहीं दिख रहा है।

कोरोना से विश्व में 88 हजार लोगों की मौत
दुनियाभर में कोरोनावायरस से गुरुवार शाम तक 88 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। 15 लाख 17 हजार संक्रमित हैं, जबकि तीन लाख 30 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अमेरिका में मौतों का आंकड़ा 14 हजार 795 हो गया है, जबकि चार लाख 35 हजार संक्रमित हो चुके हैं। भारत में कुल संक्रमितों की संख्या 6 हजार 245 हो गई है। इनमें से 472 मरीज ठीक हुए हैं, जबकि 205 की मौत हो चुकी है।

मेरी हालत गंभीर है: दीवान
दीवान ने लिखा, ‘‘मैं इन दिनों अच्छा महसूस नहीं कर रहा हूं। मेरे पास कोई बीमा भी नहीं है। आप जानते हैं कि यहां मेडिकल संबंधी खर्चे काफी ज्यादा हैं। मैं आपसे अपील करता हूं कि आप मेरे संदेश को खेल मंत्री और विदेश मंत्री तक पहुंचा दें ताकि वे सैन फ्रांसिस्को में भारतीय दूतावास से मेरी अस्पताल की जांच में मदद करा सकें। साथ ही संभव हो सके तो मुझे भारत बुला सकें। यहां मेरी हालत गंभीर है।’’

चेस चैम्पियन विश्वनाथन आनंद जर्मनी में फंसे
इससे पहले भारतीय ग्रैंडमास्टर और 5 बार के वर्ल्ड चेस चैम्पियन विश्वनाथन आनंद जर्मनी में फंसे हुए हैं। उन्हें 16 मार्च को ही लौटना था। आनंद बुंदेसलीगा चेस टूर्नामेंट खेलने के लिए फरवरी में जर्मनी गए थे। बढ़ते कोरोना प्रकोप के चलते उन्होंने खुद को आइसोलेशन में रखा है। आनंद की पत्नी अरुणा ने 16 मार्च को कहा था, ‘‘मैं बहुत बुरा अनुभव कर रहीं हूं, क्योंकि वे वहां (जर्मनी) फंसे हैं। हालांकि, हमें इसके लिए भी आभारी होना चाहिए कि उनकी स्थिति अन्य फंसे हुए लोगों से बेहतर है। हम उन्हें हर रोज याद करते हैं और उन्हें याद दिलाते हैं कि अच्छा खाना खाएं और हाथ बार-बार धोएं। उम्मीद है कि वे महीने के आखिर में लौट आएंगे।’’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस ने जारी किया एंट्रेंस एग्जाम का रिजल्ट, 5 स्टेप्स में ऐसे चेक करें रिजल्ट

Hindi NewsCareerBITSAT Iteration III 2020| Birla Institute Of Technology And Science Released The Entrance Exam Results, Check Results At Bitsadmission.com4 घंटे पहलेकॉपी लिंकबिरला इंस्टीट्यूट...

इनकम टैक्स रिटर्न भरने की तारीख फिर आगे बढ़ी, अब 31 दिसंबर तक फाइल कर सकेंगे

Hindi NewsUtilityIncome Tax Return ; Income Tax ; The Date For Filing Income Tax Returns Has Been Extended Again, Now We Will Be Able...

नेहा कक्कड़ ने रोहन प्रीत से शादी की, दिल्ली में फैमिली और चुनिंदा फ्रेंड्स की मौजूदगी में हुई सेरेमनी

31 मिनट पहलेसिंगर नेहा कक्कड़ और रोहन प्रीत सिंह ने शादी कर ली है। शनिवार को दिल्ली में उनकी पारंपरिक आनंद कारज सेरेमनी हुई।...