Home ज्योतिष हनुमानजी के पंचमुखी स्वरूप की कथा, श्रीराम-लक्ष्मण को बंदी बना लिया था...

हनुमानजी के पंचमुखी स्वरूप की कथा, श्रीराम-लक्ष्मण को बंदी बना लिया था अहिरावण ने

  • हनुमान जयंती पर हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ करें

हलचल टुडे

Apr 07, 2020, 02:46 PM IST

बुधवार, 8 अप्रैल को हनुमान जयंती यानी हनुमानजी का प्राकट्योत्सव है। इस दिन हनुमानजी के अलग-अलग स्वरूप की पूजा करने की परंपरा है। हनुमानजी का एक स्वरूप पंचमुखी भी है। इस स्वरूप की पूजा करने से आत्मविश्वास बढ़ता है और अनजाने भय से मुक्ति मिलती है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य और श्रीराम कथाकार पं. मनीष शर्मा के अनुसार त्रेता युग में श्रीराम और रावण के बीच युद्ध चल रहा था। श्रीराम के प्रहारों से रावण की सेना खत्म हो रही थी। उस समय रावण ने अपने मायावी भाई अहिरावण को बुलाया। अहिरावण देवी भवानी का साधक था और तंत्र-मंत्र का जानकार था। उसने अपनी साधना से श्रीराम की सेना को निद्रा में डाल दिया। इसके बाद वह श्रीराम और लक्ष्मण को अपने साथ पाताल लोक ले गया।

कुछ समय बाद जब अहिरावण की माया हटी तब विभीषण समझ गया कि ये काम अहिरावण ही कर सकता है। तब विभीषण ने हनुमानजी को पूरी बात बताई और श्रीराम-लक्ष्मण की मदद के लिए पाताल लोक भेज दिया। हनुमानजी तुरंत ही पालाल लोक की ओर चल दिए। वहां पहुंचकर उन्होंने देखा कि अहिरावण ने देवी भवानी को प्रसन्न करने के लिए पांच दिशाओं में दीपक जला रखे हैं। विभीषण ने उन्हें बताया था कि जब तक ये पांच दीपक नहीं बुझेंगे, तब तक अहिरावण को पराजित करना मुश्किल है। हनुमानजी ने पांचों दीपक को एक साथ बुझाने के लिए पंचमुखी स्वरूप धारण किया और पांचों दीपक एक साथ बुझा दिए।

इसके बाद अहिरावण की शक्तियां क्षीण होने लगी और हनुमानजी ने उसका वध कर दिया। अहिरावण के वध के बाद उन्होंने श्रीराम और लक्ष्मण को स्वतंत्र कराया और पुन: उन्हें लेकर लंका के युद्ध मैदान में पहुंच गए। इस कथा की वजह से हनुमानजी के पंचमुखी स्वरूप की पूजा की जाती है।

हनुमानजी पंचमुखी स्वरूप में उत्तर दिशा में वराह मुख, दक्षिण में नरसिंह मुख, पश्चिम में गरुड़ मुख, आकाश की तरफ हयग्रीव मुख और पूर्व दिशा में हनुमान मुख है। जो भक्त हनुमानजी के इस स्वरूप की पूजा करते हैं, उन्हें अनजाने भय से मुक्ति मिलती है। आत्मविश्वास बढ़ता है और मानसिक तनाव दूर होता है। इस स्वरूप की तस्वीर या प्रतिमा के सामने बैठें और दीपक जलाकर हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कभी भीख मांगकर गुजारा करने को मजबूर थे कादर खान, गरीबी के कारण हफ्ते में तीन दिन सोना पड़ता था खाली पेट

5 घंटे पहलेकॉपी लिंकचाहे कॉमेडी हो या विलेन का किरदार, बॉलीवुड की कई हिट फिल्मों में अपनी दमदार अदाकारी का जलवा बिखेरने वाले कादर...

कोरोना संक्रमण से कैदी की मौत, परिजनों का आरोप- अंतिम संस्कार के लिए निगम कर्मचारी को देने पड़े पैसे

Hindi NewsLocalMpJabalpurPrisoner Death Due To Corona Infection, Family Charges Money Paid To Corporation Employee For Funeralजबलपुर17 मिनट पहलेकॉपी लिंकपीडि़त परिवार ने आरोप लगाए कि...

NTA ने जारी की JNUEE 2020 एंट्रेंस एग्जाम की 'आंसर की', आज रात 10 बजे तक 'आंसर की’ को चैजेंल कर सकते हैं कैंडिडेट्स

Hindi NewsCareerNTA Releases 'Answer Key' For JNUEE 2020 Entrance Exam, Candidates Can Challenge 'Answer Key' Till 10 Pm Tonight5 घंटे पहलेकॉपी लिंकनेशनल टेस्टिंग एजेंसी...

मंत्री दंडोतिया बोले- दिमनी-अंबाह में कमलनाथ महिला के लिए अपशब्द बोलते तो उनकी लाश जाती

मुरैना/भोपाल21 मिनट पहलेगिर्राज दंडोतिया शिवराज सरकार में राज्यमंत्री हैं और दिमनी से उपचुनाव में भाजपा के प्रत्याशी हैं।कमलनाथ ने डबरा में शिवराज सरकार में...