Home दुनिया इजराइल को हाइड्रॉक्सीक्लाेराेक्विन समेत 5 टन दवा भेजी, प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने मोदी...

इजराइल को हाइड्रॉक्सीक्लाेराेक्विन समेत 5 टन दवा भेजी, प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने मोदी को शुक्रिया कहा

  • नेतन्याहू ने 3 अप्रैल को कोरोनावायरस से बचाव में सहायक एंटी मलेरिया मेडिसिन क्लोरोक्विन और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की मांग की  थी
  • 7 अप्रैल को दवा की खेप इजराइल पहुंची, यहां 10 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं और 86 लोगों की जान जा चुकी है

हलचल टुडे

Apr 10, 2020, 08:54 AM IST

येरुशलम. भारत से 5 टन कार्गाे दवा भेजे जाने पर इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा किया। इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो भी मोदी का आभार जता चुके हैं। मेडिसिन की खेप में कोरोनावायरस संकट से निपटने में सहायक एंटी मलेरिया मेडिसिन क्लोरोक्विन और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन हैं। इसे उपलब्ध कराने के लिए अमेरिका, ब्राजील से लेकर इजराइल तक ने भारत से मदद मांगी थी। इसके बाद मोदी ने वैश्विक महामारी को खत्म करने और मानवता के लिए इन दवाओं को उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया था। 

गुरुवार शाम को नेतन्याहू ने ट्वीट किया, ‘‘क्लोरोक्विन भेजने के लिए इजराइल के सभी नागरिकों की ओर से शुक्रिया मेरे प्यारे दोस्त नरेंद्र मोदी।’’ दवाइयों से भरा विमान मंगलवार को इजराइल पहुंचा था। इजराइल ने भारत से 3 अप्रैल को क्लोरोक्विन और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन दवा उपलब्ध कराने को कहा था। इसके बाद भारत ने मंगलवार को दवाइयों की खेप इजराइल को मुहैया करा दी। इससे पहले 13 मार्च को भी इजराइल ने मास्क और दूसरी जरूरी चिकित्सीय सहायता की मांग की थी। इजराइल में फिलहाल 10 हजार से ज्यादा कोरोनावायरस के मामले सामने आ चुके हैं। 86 लोगों की जान चुकी है। 121 मरीज वेंटिलेटर पर हैं। 

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन का प्रमुख निर्यातक है भारत

भारत इस दवा का दुनिया में प्रमुख उत्पादक और निर्यातक है।  25 मार्च को भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन के निर्यात पर रोक लगाई थी, लेकिन महामारी से निपटने के लिए कई देशों के अनुरोध पर 6 अप्रैल को डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड (डीजीएफटी) ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन समेत 14 दवाईयों के निर्यात पर लगी रोक को हटाने की बात कही।

कहां से हुई इसकी शुरुआत 

क्लोरोक्विन दवा का शुरुआत में इस्तेमाल मलेरिया के लिए होता था, बाद में इसका उपयोग गठियावात और दर्द निवारक के तौर पर होने लगा। हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन उसी दवा का एडवांस वर्जन है। अब तक की जांच में यह साबित हुआ है कि यह दवा कोरोना के इलाज में कुछ हद तक कारगर है। बचाव के अलावा अभी इस बीमारी का काई और इलाज नहीं है, इसलिए यही दवा इस्तेमाल में लाई जा रही है।  



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

62 दिन बाद फिर 7 लाख से कम हुए एक्टिव केस; पॉजिटिविटी रेट भी घटकर 3.82% हुआ; अब तक 77.56 लाख केस

Hindi NewsNationalCoronavirus Outbreak India Cases LIVE Updates; Maharashtra Pune Madhya Pradesh Indore Rajasthan Uttar Pradesh Haryana Punjab Bihar Novel Corona (COVID 19) Death Toll...

इंटरनेट की सनसनी बनी 'द सुपर ओवर गर्ल', मैच के बाद 3 हजार से 80 हजार हुए फॉलोअर्स

दुबईएक घंटा पहलेकॉपी लिंकसोशल मीडिया यूजर्स रियाना को 'मिस्ट्री गर्ल' और 'द सुपर ओवर गर्ल' के नाम से भी बुला रहे हैं।किंग्स इलेवन पंजाब...

3 शुभ योगों के कारण कुंभ सहित 6 राशि वालों को हो सकता है धन लाभ

Hindi NewsJeevan mantraJyotishAaj Ka Rashifal (Horoscope Today) | Daily Rashifal (22th October 2020), Daily Zodiac Forecast: Singh Rashi, Kanya, Aries, Taurus, Gemini Cancer Libra,...

अमेरिका-भारत के बीच अगले हफ्ते सैटेलाइट डेटा को लेकर मिलिट्री डील संभव, दोनों देश 2+2 मीटिंग में कर सकते हैं घोषणा

Hindi NewsInternationalIndia, U.S. Set For Military Pact On Satellite Data For Better Accuracy Of Missiles And Dronesवॉशिंगटनएक घंटा पहलेकॉपी लिंकअगले हफ्ते नई दिल्ली में...