Home दुनिया उन खिलाड़ियों की कहानियां, जिन्होंने हाईएस्ट लेवल पर खेला, अब लोगों की...

उन खिलाड़ियों की कहानियां, जिन्होंने हाईएस्ट लेवल पर खेला, अब लोगों की जिंदगियां बचा रहे

  • एनएफएल खिलाड़ी रहे रोले डाॅक्टर हैं, 24 घंटे सेवा दे रहे 
  • रोले और हेले ने संन्यास के बाद मेडिकल की पढ़ाई की थी

हलचल टुडे

Apr 13, 2020, 05:21 AM IST

न्यूयॉर्क. सलीम वलजी. 33 साल के मायरोन रोले अमेरिका की नेशनल फुटबॉल लीग (एनएफएल) में टेनेसी टाइटंस की ओर से खेलते थे। 2013 में उन्होंने खेलना छोड़ दिया और फ्लोरिडा स्टेट यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिसिन में दाखिला लिया। 2017 में वे ग्रेजुएट हुए। अब मैसाचुसेट्स जनरल हॉस्पिटल और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल से न्यूरोसर्जरी की पढ़ाई कर रहे। यहां वे कोविड-19 के मरीजों को भी ट्रीटमेंट दे रहे हैं। वे इमरजेंसी रूम के डॉक्टरों वाली टीम में हैं। वे और उनके साथी 24-24 घंटे सेवा दे रहे हैं।

रोले कहते हैं, ‘हमें सुबह 4-5 बजे से काम शुरू करना पड़ता है। सभी मरीजों को देखने के बाद उनकी पूरी डिटेल लेकर उसे हमारी जगह आने वाले डॉक्टर को बताने का काम भी जुड़ गया है। ऐसे में 24 घंटे काम करना पड़ रहा है। बीच में एक-दो घंटे की नींद ले पाएं तो खुद को खुशकिस्मत समझते हैं।’ रोले कहते हैं, ‘यहां मुझे परेशानी नहीं आती क्योंकि फुटबॉल ने मुझे अनुशासन, फोकस, कड़ी मेहनत, निष्ठा, टीमवर्क और प्रतिकूल परिस्थितियों से उबरना सिखाया है।’

चार बार की ओलिंपिक चैंपियन हेले मेडिकल उपकरण जुटा रही

कनाडा की हेले विकेनहेसर चार बार की ओलिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट हैं। पूर्व आइस हॉकी खिलाड़ी हेले अब यूनिवर्सिटी ऑफ केलगेरी से मेडिकल की पढ़ाई कर रही हैं। वे बताती हैं, ‘जब वे 10 साल की थीं, तब उन्होंने दो सपने देखे थे। एक तो प्राेफेशनल हॉकी खेलना और दूसरा डॉक्टर बनना। मेरा एक सपना तो पूरा हो गया है। अब दूसरा सपना पूरा कर रही हूं।’ 41 साल की हेले ने 2017 में आइस हॉकी से संन्यास ले लिया था। दो हफ्ते पहले तक वे टोरंटो में इमरजेंसी रूम में रोटेशन पर थीं। लेकिन जब देश में कोरोनावायरस से स्थिति खराब होने लगी, तब सभी मेडिकल स्टूडेंट और ट्रेनी को उससे निपटने के काम में लगा दिया गया। हेले ने कहा, ‘मेडिकल स्टूडेंट को कोविड-19 के मरीज के इलाज की अनुमति नहीं है। इसलिए हमें पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पीपीई) जुटाने के काम में लगा दिया गया। इसके अलावा हम उन मरीजों को भी ट्रेस कर रहे हैं, जो संक्रमित हैं।’ हेले कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के ऑफिस से लगातार संपर्क में हैं और कनाडा में सोशल डिस्टेंसिंग एडवाइजरी को प्रमोट करने में भी मदद कर रही हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

हर जोन में बायो- बबल में होगा टूर्नामेंट; जनवरी से शुरू हो सकते हैं मैच

नई दिल्ली/चंडीगढ़20 घंटे पहलेकॉपी लिंकफॉर्मेट में बदलाव किया जाएगा और चार ग्रुपों के बजाय ये टूर्नामेंट जोन के आधार पर खेला जाएगारणजी ट्रॉफी के...

ऑस्ट्रेलिया को मालाबार ड्रिल में शामिल किए जाने का चीन ने संज्ञान लिया

बीजिंग4 घंटे पहलेकॉपी लिंकअगले महीने बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में मालाबार ड्रिल के होने की संभावना है। -फाइल फोटोऑस्ट्रेलिया के मालाबार ड्रिल...

इनकम की कमी से जूझ रही हैं सरकारी कंपनियां, फिर भी सरकार ने कहा – शेयर धारकों को डिविडेंड दो

Hindi NewsBusinessPSU Dividends Update; Government Asks Public Sector Units Companies To Pay Dividendsनई दिल्ली8 घंटे पहलेकॉपी लिंकआधिकारिक सूत्रों ने कहा कि, सरकारी कंपनियों का...

हार्ट अटैक की खबराें के बीच हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हुईं 68 साल की दीप्ति नवल, मोहाली में करवाई है एंजियोप्लास्टी

7 घंटे पहलेकॉपी लिंकदीप्ति नवल की मोहाली में 19 अक्टूबर को एंजियोप्लास्टी हुई है। 68 साल की एक्ट्रेस मंगलवार को हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हुईं...