Home दुनिया ब्रिटेन में लोग 5जी तकनीक को कोरोना के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे,...

ब्रिटेन में लोग 5जी तकनीक को कोरोना के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे, कैबिनेट मंत्री ने कहा- यह सच नहीं

  • कोरोना को 5 जी कनेक्टिविटी से जोड़ने के बाद कुछ नागरिक मोबाइल इंजीनियरों को धमकी दे रहे हैं और 5 जी मास्ट जला रहे हैं
  • मोबाइल कनेक्टिविटी की अहम सुविधाओं को नुकसान पहुंचाने से अब ब्रिटेन के कम्युनिकेशन नेटवर्क पर खतरा पैदा हो रहा है

हलचल टुडे

Apr 09, 2020, 09:15 AM IST

लंदन. ब्रिटेन में कोरोना संक्रमण रोकने में लगे अफसरों को एक नई मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है। कुछ लोग संक्रमण फैलने के लिए 5 जी कनेक्टिविटी को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। कुछ लोग मोबाइल इंजीनियर को धमकी दे रहे हैं और 5 जी टॉवर जला रहे हैं। उधर, जानकारों का कहना है कि इस तकनीक का संक्रमण से कोई संबंध नहीं है और न वैज्ञानिक आधार है। 

कैबिनेट मंत्री माइकल गोव ने इन बातों का खंडन किया है। उन्होंने इसे मूर्खतापूर्ण और खतरनाक बताया है। मोबाइल कनेक्टिविटी की अहम सुविधाओं को नुकसान पहुंचाने से अब यहां के कम्युनिकेशन नेटवर्क पर खतरा पैदा हो रहा है। सोशल मीडिया पर कोरोना को 5 जी को कोरोना से जोड़ने की साजिश की बात कहने वाली पोस्ट्स की भरमार है। तथाकथित कोरोना विशेषज्ञ इस पर अपने लेख के जरिए तर्क दे रहे हैं। इसे देखते हुए अब गूगल कंपनी ने इस मामले में दखल देने का फैसला किया है।

नेशनल हेल्थ सर्विस के डायरेक्टर ने मोबाइल नेटवर्क को जरूरी बताया
ब्रिटेन के नेशनल हेल्थ सर्विस(एनएचएस) के मेडिकल डॉयरेक्टर स्टीफन पोविस ने कहा कि यह पूरी तरह से गलत है। यह एक घटिया तरह की फेक न्यूज है। हकीकत यह है कि मोबाइल फोन नेटवर्क मौजूदा समय में हम सभी के लिए जरूरी है। इसे नुकसान पहुंचाने से स्वास्थ्य सेवाओं पर असर पड़ सकता है।

गूगल अफवाह बढ़ाने वाले वीडियो हटाएगी

  • गूगल ने कहा है कि वह इस अफवाह को बढ़ावा देने वाले सभी वीडियो को इंटरनेट से हटाएगी। यूट्यूब के एक प्रवक्ता ने मीडिया को बताया कि हमारे पास ऐसी नीति है, जिससे हम कोरोना से बचने के लिए इलाज के बदले दूसरी तरीके अपनाने की बात कहने वाले वीडियो को हटा सकते हैं। हमने जानकारी मिलने के बाद इस दिशा में कदम उठाया है। ऐसे सभी वीडियो हटाए जा रहे हैं, जिसमें यूजर्स को 5 जी और कोरोना के बारे में गलत जानकारी दी गई है। 
  • कई जगहों पर मोबाइल फोन टावर्स को क्षतिग्रस्त किया गया है। बीते दिनों बिर्मिंघम और मर्सीसाइड में टेलीकॉम कर्मचारियों से बदसलूकी की गई। ब्रिटेन की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बीटी के एक मोबाइल टावर में आग लगा दी गई। इससे हजारों लोगों को 2जी, 3जी, 4जी और इंटरनेट कनेक्टिविटी की सुविधा दी जा रही थी। इस टावर से 5 जी कनेक्टिविटी की सुविधा नहीं दी जा रही थी।
  • सोशल मीडिया पर कई ऐसे वीडियो पोस्ट किए गए हैं जिनमें साजिश के तहत कोरोना संक्रमित 5 जी उपकरण ब्रिटेन भेजने के दावे किए जा रहे हैं। इन उपकरणों के चीन से भेजे जाने की बात कही जा रही है। वहीं कुछ यूजर्स इससे निकलने वाले रेडियएशन को कोरोना संक्रमण का कारण बता रहे हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

फेसबुक और इंस्टाग्राम पर दुर्गा पूजा के लिए नए फीचर्स आए, AR फिल्टर्स से मजेदार कंटेंट बना पाएंगे

नई दिल्ली2 घंटे पहलेकॉपी लिंककोरोनावायरस के चलते इस साल दुर्गा पूजा फेस्टिवल को अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर लाइव किया जा रहा हैवर्चुअल दुर्गा पूजा सेलिब्रेशन...

पूर्व पीएम नवाज बोले- मुल्क में दो सरकारें चल रही हैं, इमरान के मंत्री ने कहा- आग से खेल रहा है विपक्ष

लंदन5 घंटे पहलेनवाज शरीफ कुछ महीने से लंदन में हैं। इमरान खान सरकार ने बुधवार को ब्रिटेन सरकार को फिर लेटर लिखा। इसमें शरीफ...

कैंपस के जरिए 12 हजार फ्रेशर्स की भर्ती करेगी एचसीएल, वित्त वर्ष 2022 के लिए होगी हायरिंग

नई दिल्ली15 मिनट पहलेकॉपी लिंकन्यू एज टेक्नोलॉजी और जेनेरिक स्किल्स की जरूरत को देखते हुए टेक्नोलॉजी कंपनियां लेटरल हायरिंग की भी योजना बना रही...

मैंने लीज़ चुकाकर सिर्फ इसका पजेशन वापस पाया था, दोबारा खरीदने की खबरें गलत, ये तो मेरे पास पहले से ही है

25 मिनट पहलेकॉपी लिंकसैफ अली खान का पटौदी पैलेस एक बार फिर चर्चा में है। पिछले दिनों सैफ का एक पुराना इंटरव्यू वायरल हुआ...