Home बिज़नेस लॉकडाउन अवधि में ग्राहकों को मुफ्त सेवा देने के लिए निजी टेलीकॉम...

लॉकडाउन अवधि में ग्राहकों को मुफ्त सेवा देने के लिए निजी टेलीकॉम कंपनियों ने सब्सिडी मांगी

 

कंपनियों ने वैलिडिटी विस्तार व अतिरिक्त टॉक टाइम के रूप में ग्राहकों को 600 करोड़ से ज्यादा के लाभ दिए हैं
सीओएआई ने कहा- सरकार यदि और अधिक मुफ्त सेवा दिलाना चाहती है, तो इसे टेलीकॉम सेक्टर को सब्सिडी के रूप में दी जाए

 

हलचल टुडे

Apr 10, 2020, 08:57 PM IST

नई दिल्ली. निजी क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों ने लॉकडाउन अवधि में ग्राहकों को मुफ्त सेवा देने के लिए सरकार से सब्सिडी की मांग की है। वहीं दूसरी ओर सरकारी दूरसंचार कंपनियों बीएसएनएल और एमटीएनएल के आपूर्तिकर्ताओं ने 20 हजार करोड़ रुपए के बकाए का भुगतान कराने के लिए सरकार से मदद मांगी है। भारी भरकम एजीआर बकाए से जूझ रही टेलीकॉम कंपनियां लॉकडाउन अवधि में ग्राहकों को अनिवार्य सेवा दे रही हैं। कंपनियों ने दूरसंचार विभाग (डीओटी) से आग्रह किया है कि इस सेवा के बदले उन्हें यूएसओ फंड से भुगताना कराया जाए। कंपनियो के पत्र की एक प्रति हलचल टुडे समूह को भी हाथ लगी है। यूएसओ फंड में 31 मार्च 2020 तक 51.5 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा राशि पड़ी हुई है।

लॉकडाउन अवधि में मुफ्त सेवा देने के लिए कंपनियों को अब तक 600 करोड़ का घाटा हो चुका है

सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई) ने कहा कि लॉकडाउन अवधि में प्री-पेड ग्राहकों को मुफ्त रिचार्ज सेवा देने के लिए टेलीकॉम कंपनियों को अब तक कुल 600 करोड़ रुपए का घाटा हो चुका है। टेलीकॉम कंपनियां एजीआर मद में सरकार को हर साल जितना भुगतान करती हैं, उसका 5 फीसदी हिस्सा यूएसओ फंड में चला जाता है। ट्राई के सचिव एसके गुप्ता को संबोधित इस पत्र में सीओएआई ने कहा है कि कंपनियों ने वैलिडिटी विस्तार और अतिरिक्त टॉक टाइम के रूप में प्रीपेड ग्राहकों को 600 करोड़ रुपए से ज्यादा के लाभ दे दिए हैं। यदि सरकार और नियामक को लगता है कि और लाभ दिए जाने की जरूरत है, तो यह टेलीकॉम सेक्टर को सब्सिडी के रूप में दी जानी चाहिए। जैसे दूसरी कई आवश्यक सेवाओं के मामले में होता है। इसका भुगतान यूएसओ फंड से किया जा सकता है।

ट्राई ने नए निर्देश में कंपनियों से सभी प्रीपेड ग्राहकों कों अतिरिक्त वैलिडिटी व टॉक टाइम का लाभ देने के लिए कहा है

ट्राई का नया निर्देश आने के बाद टेलीकॉम उद्योग संघ ने यह पत्र लिखा है। नए निर्देश में ट्र्राई ने कंपनियों से कहा है कि वे चुन-चुन कर नहीं बल्कि सभी प्रीपेड ग्राहकों को समान रूप से लाभ प्रदान करें। सीओएआई ने कहा कि लॉकडाउन की शुरुआती अवधि में 8 से 10 करोड़ ग्राहकों को सेवा जारी रखने के लिए कंपनियों से मदद की जरूरत थी, लेकिन यह लाभ 28-30 करोड़ ग्राहकों को दिया गया। ट्राई ने 29 मार्च को कंपनियों को ग्राहकों को यह लाभ देने के लिए कहा था। इसके बाद भारती एयरटेल, वोडाफोन आईडिया और रिलायंस जियो जैसी कंपनियों ने प्रीपेड ग्राहकों के प्लान की वैलिडिटी 17 अप्रैल तक के लिए बढ़ा दी और उनके खाते में 10 रुपए का अतिरिक्त टॉक टाइम दे दिया। यह सेलेक्टिव आधार किया गया। इससे असंतुष्ट होकर नियामक ने 7 अप्रैल को फिर एक निर्देश जारी किया, जिसमें कंपनियों से कहा गया कि वे सभी प्रीपेड गाहकों को ये लाभ दें।

बीएसएनएल व एमटीएनएल के आपूर्तिकर्ताओं ने 20 हजार करोड़ रुपए का बकाया भुगतान मांगा

सीओएआई ने इस बीच यह भी बताया कि सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल और एमटीएनएल पर विभिन्न आपूर्तिकर्ताओं का 20,000 करोड़ रुपए बकाया है। इन आपूर्तिकर्ताओं में नोकिया, जेडटीई और भारती इन्फ्राटेल जैसी कंपनियां हैं। इन कंपनियों ने उद्योग संघ सीओएआई के जरिये टेलीकॉम सचिव अंशु प्रकाश से बकाया भुगतान कराने के लिए मदद की गुहार लगाई है। यह बकाया राशि एक साल से कुछ ज्यादा समय में बनी है। आपूर्तिकर्ता कंपनियों में टेलीकॉम एंड नेटवर्क इक्विपमेंट मैन्यूफैक्चरर्स, ई-कॉमर्स, डिजिटल कंटेंट प्रोवाइडर्स, इन्फ्रास्ट्र्रक्चर प्रोवाइडर्स और टेक्नोलॉजी पार्टनर्स शामिल हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सोनू सूद अपनी बायोपिक में खुद ही निभाना चाहते हैं अपना रोल, सोनू ने कहा- लेकिन अभी बहुत जल्दबाजी होगी

20 घंटे पहलेकॉपी लिंकसोनू सूद ने अपनी बायोपिक को लेकर काफी कन्सर्न हैं। उनका कहना है कि वे अपनी बायोपिक में खुद ही काम...

कमलनाथ बोले- शिवराज महिलाओं-किसानों के लिए रोज 4 घंटे मौन रखें तो भी प्रायश्चित नहीं होगा

Hindi NewsLocalMpBhopalKamal Nath Said: Even If Shivraj Keeps Silence For Four Hours Daily For Women And Farmers, There Will Be No Atonement.भोपाल2 घंटे पहलेकॉपी...

नए केस में 3 महीने की सबसे बड़ी गिरावट, सिर्फ 45 हजार 490 मरीज मिले; करीब 70 हजार ठीक हुए

Hindi NewsNationalCoronavirus Outbreak India Cases LIVE Updates; Maharashtra Pune Madhya Pradesh Indore Rajasthan Uttar Pradesh Haryana Punjab Bihar Novel Corona (COVID 19) Death Toll...