Home बिज़नेस लॉकडाउन के पहले दो सप्ताह में रेलवे हेल्पलाइन पर पूछे गए 2...

लॉकडाउन के पहले दो सप्ताह में रेलवे हेल्पलाइन पर पूछे गए 2 लाख से ज्यादा सवाल, ज्यादातर यात्रियों ने पूछा- 'ट्रेनें कब चलेंगी?'

  • करीब 1,85000 मामले फोन पर व्यक्तिगत तौर पर बातचीत के जरिए निपटाए गए।
  • रेलवे हेल्पलाइन नंबर के जरिए 24×7 यात्रियों की मदद कर रहा है।

हलचल टुडे

Apr 11, 2020, 06:41 PM IST

नई दिल्ली. देशव्यापी लॉकडाउन 14 अप्रैल तक है। हालांकि कोविड-19 महामारी के बढ़ते प्रकोप के चलते लाॅकडाउन को आगे बढ़ाया जा सकता है लेकिन इस पर कोई आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। 21 दिनों की लाॅकडाउन के दौरान परिवहन सेवा पूरी तरह ठप है। इस दौरान लोगों की बेचैनी यह जानने को लेकर है कि ट्रेनों का परिचालन देश में कब शुरू होगा। रेलवे की ओर से जारी हेल्पलाइन नंबरों पर करीब 14 दिनों में करीब दो लाख कॉल आए हैं, जिसमें सबसे अधिक लोगों ने ट्रेनों का परिचालन शुरू होने और टिकट वापसी के बारे में ही जानकारी मांगी है। लॉकडाउन के पहले दो सप्ताह में इस रेल नियंत्रण कार्यालय के संचार प्लटेफार्म के जरिए 2,05,000 से अधिक यात्रियों के सवालों का जवाब दिया गया। इसमें से 90 प्रतिशत (1,85000) मामले फोन पर व्यक्तिगत तौर पर बातचीत के जरिए निपटाए गए।

रेलवे ने जारी की हेल्पलाइन नंबर
बता दें कि लाॅकडाउन के शुरूआती दौर में ही यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे ने हेल्पलाइन नंबर 139 और 138 जारी किया था। वहीं सोशल मीडिया पर ईमेल आइडी भी जारी किया था। रेलवे हेल्पलाइन नंबर के जरिए 24×7 यात्रियों की मदद कर रहा है। रेल नियंत्रण कार्यालय को बेहतद ढंग से चलाने के लिए निदेशक स्तर के अधिकारियों को नियुक्त किया गया है। ये अधिकारी सोशल मीडिया और ईमेल पर लोगों द्वारा प्राप्त प्रतिक्रियाओं और उनके सुझावों पर नजर रख रहे हैं।

स्थानीय भाषा में कर रहे हैं समस्या का समाधान
रेल की हेल्पलाइन नंबर 139 पर लॉकडाउन के पहले दो सप्ताह में 1 लाख 40 हजार से अधिक यात्रियों के सवाल के जवाब दिए गए। ज्यादातर यात्री ट्रेन सेवाएं शुरु होने को लेकर और टिकट वापसी के नियमों के बारे में सवाल पूछ रहे हैं। फोन आने पर कर्मचारी व्यक्तिगत तौर पर उनके भाषा में समस्या का समाधान कर रहे हैं। हेल्पलाइन 138 पर प्राप्त कॉल जियो-नेटवर्क के साथ टैग की गई है। यदि कोई कॉल इस नंबर पर निकटतम रेलवे डिविज़नल कंट्रोल ऑफ़िस पर आती है तो वहां तैनात रेल कर्मी, जो कि स्थानीय भाषा से अच्छी तरह से वाकिफ हैं सवाल का जवाब उसी भाषा में देते हैं। जवाब देने वाला रेल कर्मी यह सुनिश्चित करता है कि जिस भाषा में सवाल किया गया है उसका जवाब भी उसी भाषा में दिया जाए।यह सुविधा रेलवे के ग्राहकों के लिए सूचनाओं के प्रवाह को तेज बनाती है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मुंगेर में विसर्जन के दौरान पुलिस पर भीड़ ने की फायरिंग, एक व्यक्ति की मौत; 20 पुलिसवाले घायल

Hindi NewsLocalBiharBihar Munger Violence Update | One Killed And 20 Policemen Injured In Clash During Durga Puja Procession In Bihar’s Mungerमुंगेर3 घंटे पहलेपुलिस का...

एक फर्स्ट क्लास मैच खेलने वाले वरुण टीम इंडिया में शामिल, कहा- टीम को जिताने के लिए खेलूंगा

दुबई2 घंटे पहलेकॉपी लिंकवरुण को IPL में शानदार प्रदर्शन के लिए ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम इंडिया के टी-20 टीम में शामिल किया गया।ऑस्ट्रेलिया...

वनप्लस ने 17300 रुपए में लॉन्च किया नया नॉर्ड N100 स्मार्टफोन, सस्ता 5G फोन भी उतारा

Hindi NewsTech autoOnePlus Launches Its Cheapest Phone Till Date And New Mid range Device: Details Hereनई दिल्ली10 घंटे पहलेकॉपी लिंकइन स्मार्टफोन को अभी यूरोप...

जिस देश में राजदूत ही नहीं, वहां से उसे वापस बुलाने की बात कर रहे विदेश मंत्री

Hindi NewsInternationalPakistan National Assembly In A Unanimous Resolution Has Asked The Government To Recall Its Ambassador To Franceइस्लामाबादएक घंटा पहलेकॉपी लिंकविदेश मंत्री शाह महमूद...