Home बिज़नेस विदेशी निवेश के मामले में ED और RBI करेंगे जांच, सरकार ने...

विदेशी निवेश के मामले में ED और RBI करेंगे जांच, सरकार ने दिया आदेश

  • Hindi News
  • Business
  • E commerce Giants Amazon Flipkart Are Violating FDI Rules; Government To ED And RBI

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

मुंबईएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

सरकार ने कहा है कि एफडीआई के मामले में रिजर्व बैंक और ED इन कंपनियों पर जरूरी कार्रवाई करें। बता दें कि कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) लंबे समय से इन कंपनियों पर कार्रवाई की मांग कर रहा है

  • यह जांच विदेशी निवेश के नियमों के उल्लंघन के मामले में होगी
  • कैट ने इसकी बार-बार मंत्रालय से शिकायत की थी जिसके आधार पर यह फैसला लिया गया है

देश में कारोबार कर रही ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए एक बड़ा झटका है। खबर है कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) और भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) इनकी जांच करेगा। यह जांच विदेशी निवेश के नियमों के उल्लंघन के मामले में होगी। सरकार ने यह आदेश दे दिया है।

ई-कॉमर्स कंपनियों की चिंता बढ़ी

सरकार के इस आदेश से इन दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनियों की चिंता बढ़ गई है। इन पर पहले से ही नजर है। सरकार ने कहा है कि रिजर्व बैंक और ED इन कंपनियों पर जरूरी कार्रवाई करें। बता दें कि कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) लंबे समय से इन कंपनियों पर कार्रवाई की मांग कर रहा है। इसी मांग के आधार पर सरकार ने यह आदेश दिया है।

विदेशी निवेश नीतियों का उल्लंघन

कैट का आरोप है कि इन ई-कॉमर्स कंपनियों ने विदेशी निवेश की नीतियों का जमकर उल्लंघन किया है। साथ ही फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट 1999 (फेमा) के नियमों का भी इन कंपनियों ने उल्लंघन किया है।कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी भरतिया ने कॉमर्स मंत्री पियूष गोयल से कई बार अमेजन और फ्लिपकार्ट की शिकायत की थी। दिसंबर में ही डिपार्टमेंट ऑफ प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्रीज एंड इंटरनल ट्रेड (DPIIT) ने रिजर्व बैंक और ईडी को पत्र जारी कर कार्रवाई करने की आदेश दिया है।

बिरला ग्रुप के साथ हुई डील

भरतिया ने कहा कि फ्लिपकार्ट और आदित्य बिरला ग्रुप के बीच हुई डील में सीधे सीधे FDI के नियमों का उल्लंघन हुआ है। कैट ने कहा कि अगले साल पूरे देश के व्यापारी ई-कॉमर्स के खिलाफ व्यापार सम्मान वर्ष मनाएंगे। बता दें कि पिछले कई सालों से लगातार भारी घाटे के बावजूद ई-कॉमर्स कंपनियां लगातार डिस्काउंट पर कारोबार कर रही हैं। अमेजन का घाटा पिछले साल 8 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा रहा है।

लगातार डील कर रही हैं कंपनियां

यह कंपनियां लगातार निवेश कर रही हैं और भारतीय कंपनियों के साथ डील कर रही हैं। ऐसे में इनकी डील और निवेश पर सवाल उठता रहा है। हाल में अमेजन ने फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस की डील पर भी सवाल खड़ा किया था और मामला कोर्ट में है। भारत में इन ई-कॉमर्स कंपनियों को अब देश की दिग्गज कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ टक्कर मिल रही है। रिलायंस ने हाल में ई-कॉमर्स में अच्छी शुरुआत की है।

Source link

Most Popular

रिजल्ट सुधारने और कार्य योजना बनाने किया मंथन

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपरायसेन14 दिन पहलेकॉपी लिंकजिले के 34 स्कूलों के प्राचार्य से लिए...

किसानों को कृषि कानूनों की वापसी की आस, सरकार टस से मस होने को तैयार नहीं

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए हलचल टुडे ऍप डाउनलोड करें Farmers are hopeful of return of agricultural laws, government is...

बिना अनुमति प्रशासनिक जज से नहीं मिल सकेगा स्टाफ

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपइंदौर14 दिन पहलेकॉपी लिंकप्रतीकात्मक फोटोसोमवार से हाई कोर्ट की इंदौर खंडपीठ...

WHO ने कहा- वायरस कितना भी बदले, 6 हफ्तों में अपडेट हाेगी वैक्सीन

Hindi NewsNationalDo Not Be Afraid Of The New Version Of Corona Found In Britain, How Much The Virus Has Changed, The Vaccine Will Be...