Home बिज़नेस सेबी ने राणा कपूर को यस बैंक के प्रमोटर के पद से...

सेबी ने राणा कपूर को यस बैंक के प्रमोटर के पद से हटाया, आम शेयर धारक के तौर पर रीक्लासीफाइड किया

  • बैंक ने सेबी से पैसा जुटाने की योजना में तेजी लाने की अपील की है
  • बैंक कई बार पैसा जुटाने में सफल नहीं रहा है, इससे शेयर पर असर पड़ा है

हलचल टुडे

Jun 11, 2020, 07:31 AM IST

मुंबई. पूंजी बाजार नियामक सेबी ने यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को प्रमोटर के तौर पर हटा दिया है। उन्हें एक आम शेयरहोल्डर के तौर पर पुनर्वर्गीकृत (reclassified) किया है। सूत्रों के मुताबिक सेबी का फैसला इस सप्ताह के शुरू में यस बैंक के मौजूदा प्रबंधन और प्रमोटर्स की अपील के बाद आया था। इन लोगों ने दूसरी तिमाही में कपूर को हटाने के लिए कहा था।

फंड जुटाने  से पहले की योजना के तहत किया गया फैसला

जानकारी के अनुसार, सेबी के नियमों के तहत प्रमोटर को फंड जुटाने की गतिविधि को आगे बढ़ाने से पहले मर्चेंट बैंकर्स को कुछ कमिटमेंट और खुलासे देने की जरूरत होती है। ऐसे में कपूर के बैंक के साथ तनावपूर्ण संबंधों और हिरासत में होने के बाद खुलासा (disclosures) जमा करने में दिक्कत बताई। दो हफ्ते पहले यस बैंक को बैंक में नॉन-प्रमोटर शेयरहोल्डर के रूप में फिर से रखे जाने के लिए को-फाउंडर अशोक कपूर के परिवार से सहमति मिली थी।

मार्च में 10 हजार करोड़ रुपए जुटाने की योजना बनी

दोनों प्रमोटर्स की शेयरहोल्डिंग अब 1.42 प्रतिशत तक कम हो गई है। कपूर और उनके परिवार द्वारा संचालित फर्म यस कैपिटल (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड और मॉर्गन क्रेडिट्स एलवीटी लिमिटेड ने पिछले साल अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच दी थी। इसके बाद बैंक का स्टॉक फंड जुटाने के लिए भारी दबाव में आ गया था। इस साल मार्च में एसबीआई के नेतृत्व वाले इक्विटी कंसोर्टियम (छह अन्य उधारदाताओं के साथ गठित) ने सरकार के कहने पर दस हजार करोड़ रुपए की पूंजी निवेश के जरिए यस बैंक को बेल आउट किया था। इससे एसबीआई (48.21 प्रतिशत) और अन्य वित्तीय संस्थानों हिस्सेदारी बैंक में बढ़ गई।

बैंक ने प्लान के तहत नया बोर्ड बनाया

इस रेस्क्यू प्लान के कारण नए बोर्ड की नियुक्ति हुई। साथ ही बैंक के आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन (एओए) से कुछ आर्टिकल्स को हटा दिया गया। बेलआउट पैकेज का उद्देश्य यस बैंक को बचाए रखना था। इसके बाद यह निजी बैंक आरबीआई के नियमों के तहत पर्याप्त इक्विटी पूंजी जुटाने में विफल रहा। नए प्रबंधन के तहत यस बैंक अब पब्लिक ऑफर के जरिये दस हजार करोड़ रुपए बाजार से जुटाने की योजना बना रहा है। बैंक ने सेबी से संपर्क कर उसे फास्ट ट्रैक के तहत एफपीओ को अंजाम देने की इजाजत मांगी है। ताकि वह आरबीआई के नियमों के मुताबिक बना रहे।

यस बैंक के संस्थापकों में से एक अशोक कपूर का पहले निधन हो चुका है

मंगलवार को कपूर परिवार ने 2013 से लड़ी जा रही बॉम्बे हाईकोर्ट से अपनी याचिका वापस लेने के अपने फैसले की जानकारी बैंक को भी दी। यस बैंक के संस्थापकों में से एक अशोक कपूर की मुंबई में नवंबर 2008 में हुए आतंकी हमले में मौत हो गई थी। इस वजह से भी राणा कपूर और अशोक कपूर के परिवार के बीच तनातनी चल रही है।

Source link

Most Popular

बच्चा अगर हार से निराश हो तो उसे समझाएं, हार-जीत खेल का हिस्सा होते हैं

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप21 मिनट पहलेकॉपी लिंकपैरेंट्स के सामने कई तरह की चुनौतियां होती...

एयरफोर्स ने LAC पर 10 आकाश मिसाइलें टेस्ट कीं; दुश्मन के विमानों को मार गिराने की ताकत

Hindi NewsNationalAmid China Border Conflict, IAF Testfires 10 Akash Missiles To 'shoot Down' Enemy FightersAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल...

फैसले से नाराज कोच लैंगर ने रेफरी से की बहस; युजवेंद्र 3 विकेट लेकर बने मैन ऑफ द मैच

Hindi NewsSportsIndia Vs Auatralia 1st T20: Yuzvendra Chahal Comes As Concussion Substitute For Ravindra JadejaAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल...