Home यूटिलिटी कल से एक बार फिर मिलेगा सस्ता सोना खरीदने का मौका, सॉवरेन...

कल से एक बार फिर मिलेगा सस्ता सोना खरीदने का मौका, सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की 10वी सीरीज 11 से 15 जनवरी तक

  • Hindi News
  • Utility
  • Gold ; Sovereign Gold Bond ; Gold Bond ; From Tomorrow, Once Again You Will Get The Opportunity To Buy Cheap Gold, Sovereign Gold Bond 10V Series From 11 To 15 January

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में इश्यू प्राइस पर हर साल 2.50% का निश्चित ब्याज मिलता है

  • इस सीरीज के लिए 1 ग्राम सोने की कीमत 5,104 रुपए तय की गई है
  • ऑनलाइन आवेदन करने और डिजिटल पेमेंट के जरिए भुगतान करने पर प्रति ग्राम 50 रु. का डिस्काउंट मिलेगा

सरकारी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 2020-21 स्कीम की 10वी सीरीज सोमवार यानी 11 जनवरी से खरीदारी के लिए खुलेगी। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की इस सीरीज के लिए 1 ग्राम सोने की कीमत 5,104 रुपए तय की है। जो लोग इनके लिए ऑनलाइन आवेदन करेंगे और डिजिटल पेमेंट के जरिए भुगतान करेंगे, उन्हें प्रति ग्राम 50 रुपए का डिस्काउंट मिलेगा। ये स्कीम 11 से 15 जनवरी तक खुलेगी।

1 ग्राम सोना से कर सकते हैं खरीदी की शुरुआत
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम के जरिए सोना यूनिट्स में खरीदते हैं, जहां एक यूनिट एक ग्राम की होती है। कोई शख्स एक वित्त वर्ष में मिनिमम 1 ग्राम और मैक्सिमम 4 किलोग्राम तक वैल्यू का बॉन्ड खरीद सकता है। हालांकि किसी ट्रस्ट के लिए खरीद की अधिकतम सीमा 20 किलोग्राम है।

इश्यू प्राइस पर मिलता है 2.50% ब्याज
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में इश्यू प्राइस पर हर साल 2.50% का निश्चित ब्याज मिलता है। यह पैसा हर 6 महीने में अपने आप आपके खाते में पहुंच जाता है। फिजिकल गोल्ड और गोल्ड ईटीएफ पर आपको इस तरह का फायदा नहीं मिलता।

8 साल का रहता है मेच्योरिटी पीरियड
बॉन्ड का मेच्योरिटी पीरियड 8 साल का है। लेकिन निवेशकों को 5 साल के बाद बाहर निकलने का मौका मिलता है। यानी जरूरत पड़ने पर आप 5 साल बाद इसे कैश कर सकते हैं। एनएसई के मुताबिक लोन लेने के दौरान कोलैटरल (इसके बदले लोन लेना) के रूप में भी इन सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड का उपयोग किया जा सकता है। इसके अलावा ये बांड एनएसई पर ट्रेड भी करते हैं। अगर गोल्ड बॉन्ड के मैच्योरिटी पर कोई कैपिटल गेन्स बनता है तो इसपर छूट मिलेगी है।

गोल्ड बॉन्ड या ETF में मिलता है 99.9% शुद्ध सोना
गोल्ड ईटीएफ की कीमत पारदर्शी और एक समान होती है। यह लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन का अनुसरण करता है, जो कीमती धातुओं की ग्लोबल अथॉरिटी है। वहीं फिजिकल गोल्ड की अलग-अलग विक्रेता/ज्वैलर अलग-अलग कीमत पर दे सकते हैं। गोल्ड ईटीएफ से खरीदे गए सोने की 99.9% शुद्धता की गारंटी होती है, जो कि सबसे उच्च स्तर की शुद्धता है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड का क्या है फायदा?
इस बॉन्ड को लोन लेने के लिए जमानत के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें समय के साथ सोने के भाव में होने वाली बढ़ोतरी का फायदा मिलेगा। उसके ऊपर ढाई पर्सेंट सालाना का ब्याज भी मिलेगा जो हर छह महीने पर बैंक खाते में जमा हो जाएगा। बॉन्ड से मिलने वाले ब्याज पर टैक्स देना होगा, लेकिन उसकी बिक्री से होनेवाले कैपिटल गेंस पर टैक्स नहीं लगेगा।

9 महीनों में इसकी कीमत में आया 10% का उछाल
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 2020-21 स्कीम की शरुआत 20 अप्रैल 2020 से हुई थी। इसकी पहली सारीज 20 से 24 अप्रैल तक चली थी। इस दौरान 1 ग्राम सोन की कीमत 4,639 रुपए तय की गई थी। अब 10वी सीरीज के लिए इसकी कीमत 5,014 रुपए प्रति ग्राम तय की गई है। यानी 20 अप्रैल 2020 से लेकर अब तक इसकी कीमत में 10% से ज्यादा का उछाल आ चुका है। इस हिसाब से जिन लोगों ने अप्रैल में इसमें निवेश किया था उन्हें 1 साल से कम समय में ही फिक्सड डिपॉजिट से ज्यादा रिटर्न मिल चुका है।

कहां से खरीदा जा सकता है गोल्ड बॉन्ड?
SGB स्कीम वाले बॉन्ड कमर्शियल बैंकों, पोस्ट ऑफिस, स्टॉक एक्सचेंजों- बीएसई और एनएसई, और स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन से खरीदे जा सकते हैं। इसे भारतीय नागरिक, अविभाजित हिंदू परिवार (HUF), ट्रस्ट, यूनिवर्सिटी और चैरिटेबल इंस्टीट्यूशन खरीद सकते हैं। इस स्कीम में कम से कम एक ग्राम सोने के दाम के बराबर का एक बॉन्ड खरीदा जा सकता है।

क्या है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड?
सरकार ने देश में फिजिकल फॉर्म में सोने की खरीदारी की मांग घटाने के मकसद से नवंबर 2015 में यह SGB स्कीम शुरू की थी। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड एक सरकारी बांड होता है। इसे डीमैट रूप में परिवर्तित कराया जा सकता है। इसका मूल्य रुपए या डॉलर में नहीं होता है, बल्कि सोने के वजन में होता है। यदि बॉन्ड पांच ग्राम सोने का है, तो पांच ग्राम सोने की जितनी कीमत होगी, उतनी ही बॉन्ड की कीमत होगी। इसे खरीदने के लिए सेबी के अधिकृत ब्रोकर को इश्यू प्राइस का भुगतान करना होता है। बॉन्ड को भुनाते वक्त पैसा निवेशक के खाते में जमा हो जाता है। यह बॉन्ड भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) सरकार की ओर से जारी करता है।

Source link

Most Popular

उत्तराखंड आपदा का 17वां दिन:चमोली से लापता 136 लोगों को मृत घोषित करेगी सरकार; ऋषिगंगा के ऊपर बनी झील का मुहाना चौड़ा किया गया

Hindi NewsNationalUttarakhand Chamoli Glacier Burst Latest Update; 136 Missing To Be Declared Dead By GovernmentAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल...

IPL की तर्ज पर चेस की ग्लोबल लीग:8 टीमें लेंगी हिस्सा, विश्वनाथन आनंद तैयार कर रहे हैं फॉर्मेट, 1 टीम फैंस भी हो सकती...

Hindi NewsSportsGlobal Chess League Planned This Year Vishwanathan Anand Is Drafting Its FormatAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल...

टैरो राशिफल:मंगलवार को मेष राशि के लोग अपने काम पर फोकस करें, मिथुन राशि के लोग विचारों को भटकने न दें

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप8 घंटे पहलेकॉपी लिंकटैरो कार्ड्स से जानिए सभी 12 राशियों के...