Home यूटिलिटी फीकी रही वॉट्सऐप पेमेंट सर्विस की शुरुआत, पहले महीने जुड़े सिर्फ 10...

फीकी रही वॉट्सऐप पेमेंट सर्विस की शुरुआत, पहले महीने जुड़े सिर्फ 10 लाख यूजर

  • Hindi News
  • Utility
  • WhatsApp Payment Service Started To Fade, Only 1 Million Users Connected In The First Month

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

नई दिल्ली2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • कंपनी ने इस पेमेंट सुविधा की शुरुआत 2 करोड़ लोगों के लिए की थी
  • 4 नवंबर को ही फेसबुक की सब्सिडियरी वॉट्सऐप ने भारत में डिजिटल पेमेंट सुविधा शुरू की थी

वॉट्सऐप पेमेंट सर्विस के लिए पहला महीना अच्छा नहीं रहा। इसकी शुरुआत काफी धीमी रही। कंपनी ने इस पेमेंट सुविधा की शुरुआत 2 करोड़ लोगों के लिए की थी। लेकिन इसके लिए पहले महीने सिर्फ 10 लाख लोगों ने ही रजिस्ट्रेशन कराया है, जो 2 करोड़ का 1 फीसदी भी नहीं है। वॉट्सऐप पेमेंट सर्विस यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) के माध्यम से डिजिटल भुगतान की सेवा दे रहा है।

4 नवंबर से हुई थी शुरुआत
4 नवंबर को ही फेसबुक की सब्सिडियरी वॉट्सऐप ने भारत में डिजिटल पेमेंट सुविधा शुरू की थी। उसे यहां अच्छी शुरुआत की उम्मीद थी जो उसे नहीं मिली। देश में वॉट्सऐप के 40 करोड़ से ज्यादा एक्टिव यूजर हैं।

नवंबर में यूपीआई और भीम के जरिए हुए 221 करोड़ से ज्यादा लेनदेन
ऑनलाइन लेनदेन में रिकॉर्ड बढ़ोतरी दर्ज की गई है। नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) के आंकड़ों के अनुसार यूपीआई और भीम के जरिए रिकॉर्ड 221 करोड़ से ज्यादा लेनदेन हुए हैं। इसके जरिए 3 लाख 90 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का लेनदेन हुआ। जो पिछले साल से 106% ज्यादा है। नवंबर, 2019 में 1.89 लाख करोड़ रुपए का लेनदेन हुआ था। वहीं नवंबर, 2019 में 122 करोड़ तो इस साल नवंबर में 221 करोड़ से ज्यादा यूपीआई लेनदेन हुए हैं। जो पिछले साल के मुकाबले 81% ज्यादा है।

अक्टूबर के मुकाबले दिखी 7% की ग्रोथ
यूपीआई और भीम के जरिए रिकॉर्ड 221 करोड़ से ज्यादा लेनदेन हुए हैं। जो अक्टूबर के मुकाबले करीब 7% ज्यादा है। नवंबर, 2020 में यूपीआई के जरिए 3 लाख 90 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का लेनदेन हुआ। वहीं अक्टूबर महीने में करीब 210 लेनदेन हुए हुए थे। इन ट्रांजेक्शन्स के जरिए 3 लाख 86 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का लेनदेन हुआ था।

यूपीआई पेमेंट सर्विस पर 1 जनवरी से 30% कैप लगाने का फैसला
हाल ही में नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने थर्ड पार्टी ऐप प्रोवाइडर्स की ओर से चलाई जाने वाली यूपीआई पेमेंट सर्विस पर एक जनवरी, 2021 से 30% कैप लगाने का फैसला किया है। इस नियम के लागू होने के बाद गूगल पे, अमेजन पे, फोनपे जैसे थर्ड पार्टी ऐप प्रोवाइडर्स के ग्राहकों पर असर पड़ेगा।

NPCI ने कहा है कि थर्ड पार्टी ऐप प्रोवाइडर्स पर 30% कैप लगाने का फैसला किया गया है। NPCI ने यह फैसला भविष्य में किसी भी थर्ड पार्टी ऐप्स के एकाधिकार रोकने और उसे साइज के हिसाब से मिलने वाले विशेष फायदे से रोकने के लिए किया है। 30% कैप तय करने से अब गूगल पे, अमेजन पे, फोनपे जैसी कंपनियां यूपीआई के तहत होने वाले कुल ट्रांजैक्शन में अधिकतम 30% ट्रांजैक्शन का ही प्रबंध कर सकेंगी।

Source link

Most Popular

ब्राजील कोवैक्सिन के 50 लाख डोज खरीदेगा; भारत में दो वैक्सीन को मंजूरी मिली

Hindi NewsNationalApproval Of 2 Vaccines In India AIIMS Director Said 2 Weeks After Taking The Second Dose, Endobodies Will DevelopAds से है परेशान? बिना...

आम लोगों के लिए अहमदाबाद में मकान खरीदना सबसे किफायती, पुणे और चेन्नई भी बेहतर

Hindi NewsBusinessAhmedabad Is The Most Affordable Residential Market, Pune And Chennai Come NextAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल...

मीना कुमारी, परवीन बाबी से लेकर दिव्या भारती की मौत तक, ट्रेजेडी से भरी रही इन फिल्मी सितारों की जिंदगी

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप21 दिन पहलेकॉपी लिंकबॉलीवुड इंडस्ट्री बाहर से जितनी खूबसूरत नजर आती...

कचरा घर की जिस जमीन को अपना बताया वह दस्तावेज में नजूल की है

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपखंडवा6 दिन पहलेकॉपी लिंक100 साल पुराना है कचरा घर, इसी भूमि...