Home राज्य डिलिवरी के दौरान गर्दन टूटने से हुई थी मौत, लापरवाही पर सख्त...

डिलिवरी के दौरान गर्दन टूटने से हुई थी मौत, लापरवाही पर सख्त जबलपुर हाईकोर्ट ने राज्य शासन से मांगा जवाब

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Jabalpur High Court Strict On Neonatal Death Due To Negligence In Delivery, Issued Notice To State Government

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

जबलपुर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

जबलपुर हाईकोर्ट

  • डिलिवरी के दौरान फंस गई थी मासूम की गर्दन, लापरवाही से खींचने पर गर्दन की हड्‌डी टूटने से हो गई थी मौत

डिलिवरी के दौरान की गई लापरवाही से नवजात की मौत मामले को हाईकोर्ट ने गंभीरता से लिया है। डिलेवरी के दौरान मासूम की गर्दन फंस गई थी। रिटायर्ड एएनएम ने लापरवाही पूर्वक नवजात का सिर पकड़कर खींचा। इससे उसकी गर्दन की हड्डियां टूट गईं और मासूम की मौत हाे गई थी। न्यायमूर्ति विशाल धगट की एकलपीठ ने मामले में राज्य शासन, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, शहडोल के संभागायुक्त, कलेक्टर, एसपी और सीएमओ उमरिया को नोटिस जारी कर आठ सप्ताह में जवाब मांगा है।
आठ जून को हुई थी डिलिवरी
मामले की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता स्टाफ नर्स सरिता कौड़े मेहरा की ओर से अधिवक्ता रूपेश पटेल ने पक्ष रखा। दलील दी कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बिरसिंहपुर पाली में आठ जून, 2020 को डिलिवरी के लिए भर्ती हुई थी। अस्पताल प्रबंधन ने उसकी डिलिवरी रिटायर्ड एएनएम उमा कुशवाहा से कराई। डिलिवरी के दौरान उसके बच्चे का सिर फंस गया। एएनएम ने लापरवाही पूर्वक बच्चे का सिर पकड़कर खींचा। इससे उसकी गर्दन की हड्डियां टूट गईं और मौत हो गई।
शिकायत के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई
इस मामले में रिटायर्ड एएनएम और अस्पताल के स्टाफ के खिलाफ पीड़ित सरिता ने एफआईआर और विभागीय कार्रवाई के लिए सीएमओ और थाना प्रभारी को आवेदन दिया गया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। बहस के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से तर्क रखा गया कि एक मां नौ माह तक गर्भ में जिस शिशु को पालती-पोसती रही, उसकी किलकारी सुनने के लिए व्याकुल थी। मगर अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही ने सारी खुशी एक झटके में छीन ली। यह गैर इरादतन हत्या का मामला है। लिहाजा, दोषियों को किसी भी सूरत में माफ नहीं किया जा सकता।

Source link

Most Popular

कोरोना वैक्सीन के लिए चीनी सिरिंज का इस्तेमाल होगा, केंद्र ने गुजरात भेजीं मेड इन चाइना सुइयां

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपराजकोटएक महीने पहलेलेखक: इमरान हाेथीकॉपी लिंकफोटो भोपाल की है, जहां एक...

रिजल्ट सुधारने और कार्य योजना बनाने किया मंथन

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपरायसेन14 दिन पहलेकॉपी लिंकजिले के 34 स्कूलों के प्राचार्य से लिए...

किसानों को कृषि कानूनों की वापसी की आस, सरकार टस से मस होने को तैयार नहीं

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए हलचल टुडे ऍप डाउनलोड करें Farmers are hopeful of return of agricultural laws, government is...

बिना अनुमति प्रशासनिक जज से नहीं मिल सकेगा स्टाफ

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपइंदौर14 दिन पहलेकॉपी लिंकप्रतीकात्मक फोटोसोमवार से हाई कोर्ट की इंदौर खंडपीठ...