Home राष्ट्रीय अफवाह: कोरोना रोकरने में एमबीबीएस इंटर्न की भर्ती होगी;  हकीकत : एमसीआई...

अफवाह: कोरोना रोकरने में एमबीबीएस इंटर्न की भर्ती होगी;  हकीकत : एमसीआई ने पत्र जारी नहीं किया यह ठगी का प्रयास

हलचल टुडे

Apr 09, 2020, 12:07 PM IST

सीकर. (अरविंद शर्मा)। लॉक डाउन की वजह से कई बड़े एग्जाम स्थगित कर दिए गए हैं। इसका फायदा उठाने के लिए साइबर ठग एक्टिव हो गए हैं। सोशल मीडिया पर नीट, सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड की भर्ती परीक्षाओं को लेकर कई फर्जी सर्कुलर वायरल हो रहे हैं तो एमबीबीएस इंटर्न भर्ती को लेकर पत्र भी स्टूडेंट्स तक पहुंचाए जा रहे हैं। हलचल टुडे ने इस सभी वायरल पत्रों की पड़ताल की तो सभी फर्जी मिले। स्टूडेंट्स को सावधान होने की जरूरत है, क्योंकि-इन भर्तियों और परीक्षाओं के फर्जी लैटर के जरिए आप ठगी का शिकार हो सकते हैं।

सोशल मीडिया पर मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया का एक नोटिफिकेशन शेयर किया जा रहा है। यह नोटिस एमबीबीएस इंटर्न भर्ती से संबंधित है। नोटिस को देखकर बिल्कुल ऐसा ही लगता है कि मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की ओर से ही जारी किया गया है। नोटिफिकेशन पर एमसीआई के महासचिव का हस्ताक्षर भी है।

इसमें कहा गया है कि 3 अप्रैल से सरकार और निजी मेडिकल कॉलेज द्वारा एमबीबीएस इंटर्न और एमबीबीएस तीसरे साल के पार्ट-2 के छात्रों को कोविड-19 के मामले को देखते हुए भर्ती किया जाएगा। हलचल टुडे ने एमसीआई की वेबसाइट पर जाकर पड़ताल की तो वहां ऐसा कोई पत्र नहीं मिला। वहां इस पत्र को सूचना दी गई है कि नोटिफिकेशन फर्जी है और सभी संबंधित लोगों के संज्ञान के लिए यह बात बताई जाती है कि बोर्ड ऑफ गवर्नर द्वारा इस तरह का कोई पत्र जारी नहीं किया गया है। इस मामले में कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

नीट : सिलेबस में बदलाव किया है, सच : एनटीए के हवाले से वायरल किया गया पत्र फर्जी है
मेडिकल कॉलेजों में यूजी कोर्सेज में दाखिले के लिए होने वाली नीट परीक्षा तीन मई को होने वाली थी, लेकिन लॉक डाउन की वजह से स्थगित किया जा चुका है। लेकिन सोशल मीडिया पर एनटीए के हवाले से एक पत्र वायरल है, जिसमें कहा गया है कि नीट एग्जाम का सिलेबस बदला गया है।

पत्र पर तीन अप्रैल 2020 की तारीख अंकित है। भास्कर ने एनटीए की वेबसाइट की जांच की तो पता चला कि यह पत्र फर्जी है। एनटीए ने भी इस पत्र को फर्जी बताते हुए कहा है कि सिलेबस में किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया है। एनटीए ने यह भी कहा है कि अगर किसी तरह का बदलाव या कोई नई सूचना होगी तो उसे नीट यूजी या एनटीए की आधिकारिक वेबसाइट पर अपडेट जरूर किया जाएगा।  

यूजी कोर्सेज में दाखिले के लिए होने वाली नीट परीक्षा तीन मई को होने वाली थी, लेकिन लॉकडाउन की वजह से स्थगित की जा चुकी है। सोशल मीडिया पर एनटीए के हवाले से एक पत्र वायरल है, जिसमें कहा गया है कि नीट एग्जाम का सिलेबस बदला गया है।
यूजी कोर्सेज में दाखिले के लिए होने वाली नीट परीक्षा तीन मई को होने वाली थी, लेकिन लॉकडाउन की वजह से स्थगित की जा चुकी है। सोशल मीडिया पर एनटीए के हवाले से एक पत्र वायरल है, जिसमें कहा गया है कि नीट एग्जाम का सिलेबस बदला गया है।

आईसीएसई : 4 पत्र जारी, परीक्षा 16 से 22 अप्रैल के बीच होगी, सच : ऐसे कोई पत्र जारी नहीं हुए
आईसीएसई (दसवीं) और आईएससी (12वीं) परीक्षा को लेकर चार सर्कुलर वायरल हैं। इनमें दो पर एक अप्रैल व दो पर 28 मार्च व सात फरवरी की तारीख दर्ज है। काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) की वेबसाइट पर इनकी जांच की तो पता चला कि ये सभी फर्जी है।

एक अप्रैल 2020 वाले पत्र में कहा गया है कि आईसीएसई और आईएससी 2020 परीक्षाएं लॉकडाउन के कारण रद्द कर दी गई हैं। इसी तारीख के दूसरे पत्र में एक फर्जी प्रेस विज्ञप्ति दी गई है जिसमें काउंसिल द्वारा 16 से 22 अप्रैल 2020 के बीच आईसीएसई की परीक्षा कराए जाने की बात कही गई है। 28 मार्च की तारीख वाले पत्र में 6 विषयों के लिए ली जा चुकी परीक्षा के आधार पर रिजल्ट जारी किए जाने की बात कही गई है। सीआईएससीई ने इन सभी पत्राें को फर्जी बताया है। 

आईसीएसई (दसवीं) और आईएससी (12वीं) परीक्षा को लेकर भी फेक सर्कुलर वायरल हैं।
आईसीएसई (दसवीं) और आईएससी (12वीं) परीक्षा को लेकर भी फेक सर्कुलर वायरल हैं।

सीबीएसई : परीक्षाएं 22 अप्रैल से शुरू होगी, सच : वायरल लेटर फर्जी
सीबीएसई के नाम से एक प्रेस रिलीज सोशल मीडिया में शेयर की जा रही है। इसमें दावा किया गया है कि कोरोना वायरस के चलते जो परीक्षाएं पहले रोक दी गई थीं वो 22 अप्रैल से शुरू होंगी। वायरल पत्र में चार दावे भी किए गए हैं कि, उत्तर पूर्वी दिल्ली प्रांत, भारत और विदेशों में स्थगित की गई परीक्षाओं को फिर से कराया जाएगा।

परीक्षा केंद्र जो पहले अलॉट किए गए थे, वहीं रहेंगे। नए एडमिट कार्ड जारी नहीं किए जाएंगे और मूल्यांकन कार्य 25 अप्रैल से शुरू हो जाएगा। भास्कर ने पड़ताल की तो यह पत्र फर्जी मिला। क्योंकि-इस पर सीबीएसई की न तो कोई मोहर है और न ही सचिव अनुराग त्रिपाठी के हस्ताक्षर हैं। पीआईबी ने अपने ट्विटर हैंडल पर इसे फर्जी बताया है।  

सीबीएसई के नाम से भी फेक प्रेस रिलीज सोशल मीडिया में शेयर की जा रही है।
सीबीएसई के नाम से भी फेक प्रेस रिलीज सोशल मीडिया में शेयर की जा रही है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जबलपुर के बदमाश ने 5 घंटे बेहोशी का नाटक किया, तीन डॉक्टरों के पैनल ने जांच के बाद कहा- ठीक है, तब भेजा गया...

जबलपुर2 घंटे पहलेकॉपी लिंकमाजिद खान उर्फ मूसा के आपराधिक रिकॉर्ड को देखते हुए जिला दंडाधिकारी ने NSA में निरुद्ध करते हुए गिरफ्तारी का वारंट...

RCB को चीयर करती दिखीं धनश्री, तान्या और अनुष्का; कोहली 200 छक्के लगाने वाले तीसरे भारतीय

दुबई39 मिनट पहलेकॉपी लिंकआईपीएल के 13वें सीजन में रविवार को चेन्नई सुपर किंग्स ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को 8 विकेट से हरा दिया। पर्यावरण...

पहला क्वालिफायर और फाइनल दुबई में, एलिमिनेटर और दूसरा क्वालिफायर अबु धाबी में होगा

दुबई15 मिनट पहलेकॉपी लिंकआईपीएल प्ले-ऑफ 5 नवंबर से 10 नवंबर तक खेले जाएंगे।बीसीसीआई ने रविवार को आईपीएल 2020 के प्लेऑफ का शेड्यूल जारी कर...