Home राष्ट्रीय ड्रग मैन्युफेक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बोले- देश में कोरोना की एचसीक्यू दवा...

ड्रग मैन्युफेक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बोले- देश में कोरोना की एचसीक्यू दवा का 1 करोड़ गोलियों का बफर स्टॉक, दुनिया को चीन के मुकाबले भारत पर भरोसा

  • चीन दवाओं का एक प्रमुख उत्पादक है, लेकिन वहां यूएसएफडीए मान्य बहुत कम प्लांट हैं
  • मौजूदा परिस्थितियों में, दवाओं के लिए अमेरिका या अन्य देशों के साथ सौदेबाजी का सवाल ही नहीं है
  • भारत HCQ और पेरासिटामोल के उत्पादन और निर्यात में पूरी तरह सक्षम है

विमुक्त दवे

विमुक्त दवे

Apr 09, 2020, 04:08 PM IST

अहमदाबाद. अमेरिकी सरकार के कहने पर भारत सरकार ने मार्च में दवाओं के निर्यात पर प्रतिबंध हटा दिया। इनमें हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ) और पेरासिटामोल भी शामिल हैं, जो कोरोना उपचार के लिए सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली दवाएं हैं। इन दवाओं पर निर्यात प्रतिबंध को हटाने पर काफी बहस हो रही है। यह बात भी आई कि अमेरिका ने दवाइयों के निर्यात पर लगी रोक को उठाने के लिए भारत को धमकाया था। इसके अलावा, अगर भारत निर्यात प्रतिबंध को हटाता है, तो यह भी हो सकता है कि इसके बदले में उसने अमेरिका से कोई सौदेबाजी की हो। फार्मा इंडस्ट्रीज के अनुसार, भारत में कोरोना  के उपचार के लिए 100 मिलियन से अधिक HCQ टैबलेट उपलब्ध हैं। इसके अलावा हम दुनिया को भी दवा देने को सक्षम हैं। अमेरिका, या दुनिया के अन्य देशों की बात करें तो दवा की बात आते ही वे चीन की तुलना में भारत पर अधिक भरोसा  करते है। भास्कर ने इंडियन ड्रग मैन्युफेक्चरर्स एसोसिएशन (IDMA) के अध्यक्ष महेश दोशी से बात की, ताकि यह पता लगाया जा सके कि फार्मा उद्योग इस विषय मे क्या सोचता है।

अमेरिका ने भारत से दवा लेने का विकल्प क्यों चुना?
जहां तक ड्रग की गुणवत्ता और विश्वसनीयता का सवाल है, यूएसएफडीए मान्यता प्राप्त प्लांट अमेरिका के बाहर भारत में अधिक है। पेरासिटामोल और HCQ जैसी दवाओं के उत्पादन में चीन हमसे बेहतर है, लेकिन चीन के पास USFDA द्वारा मान्यता प्राप्त प्लांट काफी कम है । जब दवा में विश्वास की बात आती है, तो अमेरिका सहित दुनिया का कोई भी देश भारत पर अधिक भरोसा करता है। हमारे पास एक मानक है और हमारे द्वारा उत्पादित दवाओं की विश्वसनीयता अधिक है।

क्या भारत ने प्रतिबंध हटाने के बदले कोई मांग की थी ? क्या किसी तरह की सौदेबाजी हुई है?
इस मामले में सौदेबाजी का कोई सवाल ही नहीं है और ऐसा करने का उचित समय भी नहीं है। भारत को फार्मेसी के हब के रूप में जाना जाता है और हम वैश्विक परिवार में विश्वास करते हैं। सोशल मीडिया में ऐसी कई बातों पर चर्चा हो रही है की भारत ने निर्यात प्रतिबंध हटाने के बदले कुछ मांग की होगी। यह सब झूठ है। हमारी सरकार नीतिगत नियमों के संदर्भ में ऐसी बातें नहीं कहेगी क्योंकि यह देश की प्रतिष्ठा का सवाल है।

भारत सरकार दवाओं के निर्यात पर प्रतिबंध क्यों लगाया था ?
भारतीय फार्मा उद्योग कच्चे माल के मामले में चीन पर निर्भर है। वुहान ड्रग कच्चे माल के मुख्य केंद्रों में से एक है जहां कोरोना का चीन में संक्रमण सबसे अधिक हुआ है। चीन से माल की आपूर्ति फरवरी के दौरान स्थिर हो गई थी और इन परिस्थितियों में भारत सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती थी कि देश में किसी भी प्रतिकूल परिस्थिति से निपटने के लिए हमारे पास पर्याप्त तैयारी हो । इस प्रकार, एहतियाती कारणों से, केंद्र ने दवाओं के निर्यात को तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया गया था। सरकार फार्मा उद्योग के साथ लगातार संपर्क में थी। हमने सरकार को भी आश्वासन दिया है कि भारतीय दवा कंपनियों के पास पर्याप्त कच्चा माल है और देश आवश्यकतानुसार दवाओं का उत्पादन करने में सक्षम है।

वर्तमान स्थिति में हम पर्याप्त HCQ और पेरासिटामोल का उत्पादन कर सकते हैं?
इन परिस्थितियों में, भारतीय निर्माता इन दोनों दवाओं के कच्चे माल और उत्पादन करने में पूरी तरह से सक्षम हैं। HCQ का उत्पादन करने वाली इप्का लेबोरेटरीज और ज़ाइडस कैडिला में भी पर्याप्त क्षमता है। ये दोनों कंपनियां एक महीने में 20 मिलियन टैबलेट का निर्माण कर सकती हैं। सरकार ने सतर्कता के तहत 10 मिलियन टैबलेट का स्टॉक भी किया है। इसके अलावा भी अगर देश और दुनिया के लिए एक बड़ी जरूरत आती है तो हम उत्पादन कर सकते हैं ।

क्या प्रतिबंध से पहले भी HCQ के निर्यात ऑर्डर आए थे?
पेरासिटामोल और HCQ को पहले अमेरिका और अन्य देशों को निर्यात किया गया था। भारत ने कोरोना वायरस के आने से पहले भी 8-10 टन हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का निर्यात किया था। कोरोना की वजह से मांग अब काफी बढ़ गई है। प्रतिबंध के दौरान, जिन निर्यातकों के पास लाइसेंस आधार पर दवा का निर्यात करने के ऑर्डर थे, सरकार ने उनको एक्सपोर्ट करने की छूट दी थी । हालांकि, 3 मार्च को प्रतिबंध के बाद, किसी ने निर्यात नहीं किया।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

RCB को चीयर करती दिखीं धनश्री, तान्या और अनुष्का; कोहली 200 छक्के लगाने वाले तीसरे भारतीय

दुबई39 मिनट पहलेकॉपी लिंकआईपीएल के 13वें सीजन में रविवार को चेन्नई सुपर किंग्स ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को 8 विकेट से हरा दिया। पर्यावरण...

पहला क्वालिफायर और फाइनल दुबई में, एलिमिनेटर और दूसरा क्वालिफायर अबु धाबी में होगा

दुबई15 मिनट पहलेकॉपी लिंकआईपीएल प्ले-ऑफ 5 नवंबर से 10 नवंबर तक खेले जाएंगे।बीसीसीआई ने रविवार को आईपीएल 2020 के प्लेऑफ का शेड्यूल जारी कर...

विद्या, विनय, विवेक, साहस, अच्छे काम, सत्य ये सभी बुरे समय के साथी होते हैं, इनकी मदद से हर विपत्ति दूर हो सकती है

16 घंटे पहलेकॉपी लिंकगोस्वामी तुलसीदास ने श्रीरामचरित मानस के साथ ही दोहावली, विनय पत्रिका जैसे ग्रंथों की भी रचना की हैश्रीरामचरित मानस की रचना...