Home राष्ट्रीय बालाजी वेफर्स अब उत्तरप्रदेश में एंट्री करने की तैयारी में, 600-700 करोड़...

बालाजी वेफर्स अब उत्तरप्रदेश में एंट्री करने की तैयारी में, 600-700 करोड़ के निवेश से 100 एकड़ में बनाएगी फूड पार्क

  • Hindi News
  • Business
  • Balaji Wafers Now Preparing To Enter Uttar Pradesh, Will Invest 600 700 Crores To Build Food Park On 100 Acres

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

अहमदाबाद9 घंटे पहलेलेखक: विमुक्त दवे

  • कॉपी लिंक

बालाजी वेफर्स का गुजरात के राजकोट में स्थित प्लांट।

  • कंपनी को उत्तरप्रदेश में 5 साल में 3000 करोड़ के टर्नओवर की उम्मीद
  • कंपनी ने 2016 में पहली बार गुजरात से बाहर मध्यप्रदेश में लगाया था प्लांट

वेफर्स और पैक्ड स्नेक्स बनाने वाली राजकोट की कंपनी बालाजी वेफर्स प्राइवेट लिमिटेड अब गुजरात के बाहर अपना दूसरा प्लांट शुरू करने की तैयारी में है। हलचल टुडे से हुई बातचीत में कंपनी के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर (MD) चंदूभाई विराणी ने बताया कि फिलहाल कंपनी के बड़े प्लांट गुजरात के राजकोट और वलसाड में है। इनके अलावा, गुजरात से बाहर दूसरा प्लांट मध्यप्रदेश के इंदौर में है। अब कंपनी उत्तर भारत का रुख करने की तैयारी में है। इसके तहत उत्तरप्रदेश में एक फूड पार्क बनाने की योजना पर काम शुरू हो गया है।

कंपनी 600-700 करोड़ रुपए का निवेश करेगी
बालाजी वेफर्स के डायरेक्टर केयूर विराणी ने बताया कि हमने उत्तरप्रदेश में कानपुर और लखनऊ के पास कई जगह देखी हैं। जल्द ही प्लांट के बारे में फैसला ले लिया जाएगा। करीब 100 एकड़ में बनने वाले इस फूड पार्क के लिए कंपनी शुरुआती चरण में 600-700 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। इस निवेश का कुछ भाग इंटरनल सोर्सेज से खड़ा किए जाने की प्लानिंग है। वहीं कुछ फंड बैंक लोन के जरिए मैनेज करने की कोशिश है।

बालाजी वेफर्स के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर (MD) चंदूभाई विराणी।

बालाजी वेफर्स के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर (MD) चंदूभाई विराणी।

एक ही जगह सारी सुविधाएं मुहैया कराने की प्लानिंग
केयूर विराणी ने बताया कि फूड पार्क में हम अपने आलू, ग्रेन्स, मसाला जैसे मटीरियल सप्लायर्स को जगह देंगे। इसके लिए वेयरहाउस और प्रोसेसिंग यूनिट भी शुरू की जाएगी। हमारा कॉन्सेप्ट ऐसा है कि एक ही जगह सारी सुविधाएं मौजूद हों, ताकि प्रोडक्शन में किसी तरह की परेशानी न हो। हम इस टार्गेट के साथ आगे बढ़ रहे हैं कि पांच साल में इस फूड पार्क का टर्नओवर 3 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच जाए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करेंगे
केयूर विराणी ने बताया कि हम इस प्रोजेक्ट के लिए उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने की कोशिश कर रहे हैं। हमारा मकसद उनसे मिलकर प्रोजेक्ट के बारे में चर्चा करने का है। हालांकि, उनसे मुलाकात को लेकर हम पूरी तरह से निश्चिंत हैं, क्योंकि, इससे उत्तर प्रदेश में निवेश आने के साथ स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा।

बालाजी वेफर्स के डायरेक्टर केयूर विराणी।

बालाजी वेफर्स के डायरेक्टर केयूर विराणी।

उत्तर भारत में मार्केट कवर करने की प्लानिंग
कंपनी फिलहाल गुजरात और मध्यप्रदेश के प्लांट से उत्तर भारत के मार्केट को कवर करती है। अगर यूपी में ही प्रोडक्शन शुरू हो जाएगा, तो बिहार, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा और उत्तराखंड तक पहुंच और आसान हो जाएगी। बालाजी वेफर्स कंपनी से मिली जानकारी के अनुसार इन सभी स्टेट्स में पैक्ड वेफर्स और स्नेक्स की अच्छी डिमांड है।

हिस्सेदारी बेचने की कोई योजना नहीं
यूपी में प्लांट खड़ा करने को लेकर केयूर विराणी ने यह भी स्पष्ट किया कि कंपनी को लेकर अक्सर ये बातें सामने आती रहती हैं कि कंपनी अपनी हिस्सेदारी बेचने को तैयार है। लेकिन, हमारी ऐसी कोई प्लानिंग नहीं है। हां, इससे पहले पेप्सिको कंपनी ने बालाजी का स्टेक खरीदने में दिलचस्पी दिखाई थी, लेकिन बात आगे नहीं बढ़ सकी। वहीं, यूपी के प्लांट को लेकर बात की जाए तो यह निवेश काफी बड़ा है। लेकिन, फिर भी हमारी प्लानिंग हिस्सेदारी बेचने की नहीं है। इस खर्च को हम अपने स्तर पर ही मैनेज करेंगे।

बालाजी वेफर्स के राजकोट स्थित प्लांट में तैयार होते हुए वेफर्स।

बालाजी वेफर्स के राजकोट स्थित प्लांट में तैयार होते हुए वेफर्स।

इंडियन मार्केट में बालाजी वेफर्स का 20% शेयर
कंपनी के डायरेक्टर केयूर विराणी के मुताबिक, पूरे भारत के स्नेक्स मार्केट में और खासतौर पर वेफर्स मार्केट में बालाजी वेफर्स का हिस्सा 20% के आसपास है। जबकि पश्चिम भारत में कंपनी का मार्केट शेयर 65% से ज्यादा है। वहीं, गुजरात के मार्केट की बात करें तो होम स्टेट में कंपनी का मार्केट शेयर 75% से ज्यादा है।

2016 में इंदौर में बनाया था प्लांट
बालाजी वेफर्स ने गुजरात से बाहर अपने पहला प्लांट मध्यप्रदेश के इंदौर में लगाया था। इस प्लांट की शुरुआत अक्टूबर 2016 में हुई थी, जिसके लिए कंपनी ने करीब 400 करोड़ रुपए का निवेश किया था। इस प्लांट से मध्यप्रदेश के अलावा राजस्थान, उत्तरप्रदेश और दिल्ली के आसपास के मार्केट कवर किया जाता है।

2020-21 में 2800 करोड़ रुपए के टर्नओवर की उम्मीद
बालाजी वेफर्स पिछले कुछ वर्षों से तेजी से आगे बढ़ रही है। कंपनी का टर्नओवर 2014-15 में 1200 करोड़ रुपए था, जो बढ़कर 2018-19 में 1800 करोड़ और 2019-20 में 2500 करोड़ हो गया। वहीं, 2020-21 में टर्नओवर 2800 करोड़ रहने की उम्मीद है। हालांकि, कोरोना के चलते टर्नओवर कंपनी की उम्मीद से कुछ कम रह सकता है।

Source link

Most Popular

किसानों ने मांगे फसल के दाम, कोरोना ने रोका मोदी का वर्ल्ड टूर और देसी वैक्सीन ने जगाई उम्मीद भरपूर

Hindi NewsNationalTodays News| India News| Farmers Protest| Farmers Demanded Crop Prices, Corona Stopped Modi's World Tour And Country Vaccine Raised HopesAds से है परेशान?...

घर में नहीं सड़ेगा कचरा, कलेक्शन गाड़ी नहीं आए ताे ड्राइवर काे माेबाइल लगाएं

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपनीमच17 दिन पहलेकॉपी लिंकड्राइवरों की मनमानी पर लगेगी लगाम, नगरपालिका 32...

सियासत न कर दे कोरोना की जंग को फीका, मौकापरस्त नेताओं के लिए भी लाओ कोई टीका

आज का राशिफलमेषमेष|Ariesपॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे।...

स्लाटर हाऊस व गवली पलासिया में 4 काैओं व पांदा में 1 बत्तख की माैत

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपमहू17 दिन पहलेकॉपी लिंकपांदा में बत्तख के सैंपल लिए, अब तक...