Home राष्ट्रीय भारत बायोटेक ने कहा- वैक्सीन ट्रायल का डिजाइन ही ऐसा कि 130...

भारत बायोटेक ने कहा- वैक्सीन ट्रायल का डिजाइन ही ऐसा कि 130 वॉलंटियर्स बाद में पॉजिटिव आ सकते हैं

  • Hindi News
  • Coronavirus
  • Coronavirus Vaccine Tracker Bharat Biotech Covaxin Latest News Update; Pfizer, Moderna, Sputnik V On Vaccine Trial

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

14 मिनट पहले

  • ट्रायल्स में वैक्सीन लगवाने के दो हफ्ते में ही हरियाणा के मंत्री अनिल विज पॉजिटिव निकले थे

स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सिन बनाने वाली हैदराबाद की कंपनी भारत बायोटेक का कहना है कि ट्रायल्स में शामिल वॉलंटियर अगर पॉजिटिव आते हैं तो घबराने की जरूरत नहीं है। ट्रायल का डिजाइन ही कुछ ऐसा है कि 130 वॉलंटियर पॉजिटिव हो सकते हैं। कंपनी की ओर से सरकार की क्लीनिकल ट्रायल वेबसाइट पर यह जानकारी दी गई है।

सीरम ने ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का इमरजेंसी अप्रूवल मांगा, ऐसा करने वाली पहली स्वदेशी कंपनी

हरियाणा के स्वास्थ्य और गृह मंत्री अनिल विज भी कोवैक्सिन के ट्रायल्स में शामिल हुए थे। दो हफ्ते बाद वे पॉजिटिव हो गए। इससे कोवैक्सिन के ट्रायल्स को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे थे। कंपनी के मुताबिक इस तरह के केस अनुमान से हटकर नहीं हैं। जब इस तरह के इंफेक्शन के केस एक-तिहाई या दो-तिहाई तक पहुंच जाएंगे तब कंपनी एनालिसिस करेगी। इस आधार पर तय होगा कि ट्रायल्स में शामिल कितने वॉलंटियर्स का कितने समय तक फॉलोअप किया जाए।

हरियाणा के मंत्री अनिल विज तो वैक्सीन की ट्रायल्स में शामिल हुए थे, फिर उन्हें कोरोना कैसे हो गया?

विज ने सोशल मीडिया पर बताया था कि पहला डोज लगाने के 15 दिन के भीतर ही उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इस पर भारत बायोटेक ने शनिवार को बयान जारी कर कहा था कि कोवैक्सिन के दो डोज 28 दिन के अंतर से दिए जा रहे हैं। दूसरे डोज के दो हफ्ते बाद ही यह कहा जा सकेगा कि वैक्सीन कितनी असरदार है। कोविड-19 वैक्सीन बना रही अंतरराष्ट्रीय फार्मा कंपनियों ने भी हजारों वॉलंटियर्स को फेज-3 ट्रायल्स में शामिल किया और उनका ट्रायल डिजाइन भी इसी तरह का है।

फाइजर और मॉडर्ना वैक्सीन बनाने में महिला वैज्ञानिकों का हाथ, गुजरात की नीता नोवावैक्स की अगुआ बनीं

फाइजर के पास 170 केस का एनालिसिस है। वहीं, मॉडर्ना ने 95 केस के नतीजों की घोषणा की है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका के वैक्सीन के ट्रायल्स में 131 केस सामने आने के बाद एनालिसिस सामने आया। वहीं, रूस की स्पुतनिक V वैक्सीन के ट्रायल्स में 26 केस सामने आए। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन-कोवीशील्ड को छोड़कर बाकी सभी वैक्सीन 92% से ज्यादा असरदार रही हैं। कोवीशिल्ड, जिसके टेस्ट पुणे के सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) करवा रहा है, 62-90% की रेंज में असरदार रही है। वैक्सीन डोज की क्वांटिटी बदलते ही अलग नतीजे सामने आए। स्पूतनिक V को रूस में इमरजेंसी अप्रूवल मिला है, वहीं फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन को UK और बहरीन में। भारत समेत अन्य देशों में ड्रग रेगुलेटर के फैसले का इंतजार है।

Source link

Most Popular

अक्टूबर में ESIC से 11.75 लाख नए सदस्य जुड़े, EPFO से जुड़ने वालों में कमी आई

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपनई दिल्लीएक महीने पहलेकॉपी लिंकNSO की रिपोर्ट ESIC, एंप्लॉयीज प्रॉविडेंट फंड...

NCB ने फॉरेंसिक जांच के लिए भेजे 85 गैजेट्स, इनमें दीपिका, सारा, श्रद्धा जैसे बॉलीवुड सेलेब्स के गैजेट्स भी शामिल

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपएक महीने पहलेसुशांत सिंह राजपूत डेथ केस से जुड़े ड्रग्स मामले...

3 माह में 300 मरीजों को चढ़ाया था प्लाज्मा, अब 30 दिन में सिर्फ 1 को

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपग्वालियर11 दिन पहलेकॉपी लिंकप्रतिकात्मक फोटोकारोबारी की मौत के बाद प्लाज्मा चढ़ाना...

अगर किसान संगठनों में आपसी टूट बढ़ी तो सरकार बची हुई दो मांगों पर नहीं झुकेगी

Hindi NewsNationalFarmers Protest: Kisan Andolan Delhi Burari Update | Haryana Punjab Farmers Delhi Chalo March Latest News Today 30 DecemberAds से है परेशान? बिना...