Home राष्ट्रीय शौर्य चक्र विजेता कर्नल बेटे के अंतिम संस्कार के लिए पैरेंट्स को...

शौर्य चक्र विजेता कर्नल बेटे के अंतिम संस्कार के लिए पैरेंट्स को दो हजार किमी. सफर करना पड़ रहा; सोशल मीडिया यूजर्स नाराज

  • कर्नल नवजोत सिंह बल कैंसर से पीड़ित थे, गुरुवार को बेंगलुरु में निधन हुआ 
  • लॉकडाउन और नौकरशाही की वजह से माता-पिता को फ्लाइट नहीं मिल सकी, आज शाम बेंगलुरु पहुंचेंगे

हलचल टुडे

Apr 11, 2020, 04:20 PM IST

नई दिल्ली. भारतीय सेना में कर्नल नवजोत सिंह बल (39) का गुरुवार को बेंगलुरु में निधन हो गया। उन्हें कैंसर था। इसी बीमारी की वजह से उनका एक हाथ भी काटना पड़ा था। कर्नल नवजोत के माता-पिता बेटे के अंतिम संस्कार के लिए शुक्रवार सुबह सड़क के रास्ते गुरुग्राम से बेंगलुरु रवाना हुए। वो आज देर शाम वहां पहुंचेंगे। देश में लॉकडाउन और सरकारी सिस्टम में खामियों की वजह से नवजोत के पैरेंट्स को फ्लाइट नहीं मिल सकी। सोशल मीडिया पर इसका विरोध भी किया जा रहा है।

9 अप्रैल को निधन 
कर्नल नवजोत करीब एक साल से कैंसर से पीड़ित थे। कुछ दिन पहले उनका एक मेजर ऑपरेशन किया गया था। इसमें एक हाथ निकालना पड़ा था। इन्फेक्शन रोकने के लिए ये जरूरी था। हालांकि, इसके बावजूद यह शौर्य चक्र विजेता जिंदगी की जंग हार गया। 9 अप्रैल को बेंगलुरु के अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली।  

माता-पिता गुरुग्राम में थे
कर्नल नवजोत के पैरेंट्स गुरुग्राम में थे। यहां से बेंगलुरु की दूरी करीब दो हजार किलोमीटर है। सरकारी नियम-कायदों के चलते उनके पैरेंट्स को एयरफोर्स का विमान नहीं मिल सका। लॉकडाउन के चलते डोमेस्टिक फ्लाइट्स ऑपरेशन भी पूरी तरह नहीं चल रहे हैं। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, ब्यूरोक्रेसी ने भी जिम्मेदारी का परिचय नहीं दिया। 

क्यों नहीं मिल सका कोई विमान?
कर्नल के पैरेंट्स को बताया गया कि बेंगलुरु के लिए कोई सिविलियन फ्लाइट नहीं मिल सकती। सेना का एयरक्राफ्ट इसलिए नहीं मिल सका क्योंकि इसके लिए जरूरी मंजूरी नहीं थी। उन्हें बताया गया कि लॉकडाउन के दौरान कोई भी फ्लाइट होम मिनिस्ट्री की मंजूरी से ही जा सकती है। गुरुवार रात होम मिनिस्ट्री ने इसकी मंजूरी दे दी लेकिन वायुसेना तक यह आदेश नहीं पहुंच सका। एक सूत्र ने न्यूज एजेंसी को बताया, ‘एयरफोर्स के विमान के इस्तेमाल के लिए क्लीयरेंस जरूरी होता है। इस बारे में अनौपचारिक मंजूरी तो मिली लेकिन आदेश जारी नहीं हो सके।’ आखिरकार, नवजोत के माता-पिता को बेटे के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए सड़क के रास्ते जाना पड़ा। वो आज रात (शनिवार 11 अप्रैल) तक बेंगलुरु पहुंचेंगे।  

शौर्य चक्र विजेता
कर्नल नवजोत भारतीय सेना की स्पेशल फोर्स में 2 पैरा रेजीमेंट के अफसर थे। जम्मू-कश्मीर के लोलाब में एक ऑपरेशन के दौरान जांबाजी के लिए उन्हें शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया था। एक साल पहले तक वो अपनी यूनिट को लीड कर रहे थे। 2002 में उन्हें कमीशन मिला था। एक साल पहले पता लगा कि उन्हें कैंसर है। मौत से एक दिन पहले नवजोत ने हॉस्पिटल से ही सेल्फी पोस्ट की थी। 

लोगों में नाराजगी
नियमों के मुताबिक, किसी सैन्य अफसर के निधन के बाद पार्थिव शरीर उनके होमटाउन पहुंचाया जाता है। नवजोत के पैरेंट्स उनका अंतिम संस्कार बेंगलुरु में ही करना चाहते थे। बहरहाल, इस मामले पर लोग सरकार और नौकरशाही के रवैये से खफा हैं। नवजोत के भाई नवतेज ने शनिवार दोपहर 3 बजे बताया कि वो बेंगलुरु से 650 किलोमीटर दूर हैं। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

26 देशों में 20 लाख लोगों के लिए काम करने वाली इस्लामिक चैरिटी बंद; इमरान बोले- एकजुट हों मुस्लिम देश

पेरिस37 मिनट पहलेकॉपी लिंकफ्रांस सरकार देश के मुस्लिम कट्टरपंथी संगठनों पर सख्त कार्रवाई कर रही है। इसके लिए एंटी टेरर फोर्स को लगाया गया...

सेंसेक्स में 198 अंकों की गिरावट, बैंकिंग और ऑटो शेयरों में भी बिकवाली, एलएंडटी का शेयर 4% नीचे

Hindi NewsBusinessBSE NSE Sensex Today | Stock Market Latest Update: October 29 Share Market, Trade BSE, Nifty, Sensex Live News Updatesमुंबई24 मिनट पहलेकॉपी लिंकबीएसई...

पोलैंड में बाबूजी के नाम पर रखा जा रहा चौराहे का नाम, बिग बी ने लिखा- दशहरे पर इससे अच्छा तोहफा कुछ और नहीं...

3 दिन पहलेकॉपी लिंकमहानायक अमिताभ बच्चन के पिता और कवि डॉ. हरिवंशराय बच्चन के नाम पर पोलैंड के व्रोकला शहर में एक चौराहे का...

इंदाैर में सर्विस रोड पर पेड़ से लटके मिले युवक-युवती, लड़की ने अपने दुपट्‌टे से तो लड़के ने गमछे से बनाया फंदा

इंदौर23 मिनट पहलेकॉपी लिंकदोनों ने अलग-अलग फंदे पर लटककर जान दी।बाणगंगा थाना क्षेत्र के लवकुश चौराहा के पास सर्विस रोड पर लटके हुए थे...