Home राष्ट्रीय 26 नए पॉजिटिव मिले, आंकड़ा 489 पहुंचा; सरकार ने कई जिलों में...

26 नए पॉजिटिव मिले, आंकड़ा 489 पहुंचा; सरकार ने कई जिलों में भीलवाड़ा मॉडल लागू करने के आदेश दिए

  • सीएम ने जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, चूरू, झुंझुनू, बांसवाड़ा समेत अन्य जिलों में भीलवाड़ा मॉडल लागू करने के निर्देश दिए हैं
  • भीलवाड़ा में एक नया व्यक्ति पॉजिटिव आने से मेडिकल विभाग के अधिकारियों की चिंता बढ़ी, राज्य में अब तक आठ लोगों की मौत हो चुकी है

हलचल टुडे

Apr 10, 2020, 11:20 AM IST

जयपुर. राजस्थान में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। शुक्रवार सुबह 26 नए पॉजिटिव केस सामने आए। इसमें 12 बांसवाड़ा के हैं। यह सभी पहले संक्रमित पाए गए व्यक्ति के संपर्क में थे। वहीं, जैसलेमेर में आठ संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा झालावाड़ा में तीन और अलवर, भरतपुर और कोटा में एक-एक केस सामने आया है। इसे मिलाकर राजस्थान में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 489 तक पहुंच गया है। उधर, संक्रमण की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री गहलोत ने जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, चूरू, झुंझुनू, बांसवाड़ा समेत अन्य जिलों में भीलवाड़ा मॉडल लागू करने के निर्देश दिए हैं।

इससे पहले गुरुवार को राज्य में सबसे ज्यादा 80 नए संक्रमित मिले। इसमें 39 जयपुर से थे जबकि नौ जैसलमेर (4 ईरान से आए), पांच जोधपुर में (2 ईरान से आए) से थे। वहीं, झालावाड़, झुंझुन और टोंक में सात-सात पॉजिटिव मिले। इसके अलावा कोटा, बांसवाड़ा में दो-दो और भीलवाड़ा और बाड़मेर में एक-एक केस मिला है। गुरुवार को संक्रमण से मौत के दो मामले भी सामने आए। पहला मामला जोधपुर का था। यहां 77 साल के एक बुजुर्ग की मौत भी हो गई।  बुजुर्ग की बुधवार देर रात मौत हुई थी। गुरुवार को रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि हुई।  इसके बाद रात को जयपुर के रामगंज की रहने वाली 65 साल की संक्रमित महिला की एसएमएस अस्पताल में मौत हो गई। राज्य में संक्रमण से अब तक कुल आठ लोगों की जान जा चुकी है।

भीलवाड़ा: पहला पॉजिटिव केस ऐसा मिला, जिसकी हिस्ट्री यहां के एपिसेंटर बांगड़ अस्पताल से नहीं

भीलवाड़ा के बापूनगर में गुरुवार शाम को एक और व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। करीब 11 दिन में यहां संक्रमित मिलने का दूसरा केस है। इस केस ने प्रशासन की चिंता बढ़ा दी। क्योंकि शहर का यह पहला केस है जहां जिसकी भीलवाड़ा के एपिक सेंटर बांगड़ हॉस्पिटल से कोई हिस्ट्री नहीं है। इससे पहले भीलवाड़ा में 27 संक्रमित मिले, उनका सबका कनेक्शन बांगड़ अस्पताल से था। वहीं, मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल डॉ. राजन नंदा ने बताया लगातार पूरे शहर में स्क्रिनिंग की जा रही है। जैसे ही कोई संदिग्ध मिल रहा है उसका सैंपल लिया जा रहा है। इसके अलावा जुकाम-सर्दी और खांसी वाले मरीजों की भी पहचान की जा रही है। ताकि बीमार नजर में रह सकें।

जयपुर: संक्रमितों की संख्या 170 पहुंची, अब कम्युनिटी संक्रमण का डर 

  • जयपुर में गुरुवार को 39 नए मामले सामने आए। इसमें एक चार साल की बच्ची भी है। शहर में संक्रमितों का कुल आंकड़ा 170 (2 इटली के नागरिक) पर पहुंच गया है। जयपुर में पहला काेराेना पाॅजिटिव 2 मार्च काे मिला था। यह इटली का नागरिक था। 25 मार्च तक जयपुर में कुल 8 राेगी ही थे। मगर 26 मार्च काे रामगंज में नाैवां केस सामने आने के बाद काेराेना ने ऐसा तांडव मचाया कि 9 अप्रैल तक यह आंकड़ा 170 तक पहुंच गया।
  • इसमें 127 अकेले रामगंज के हैं। और इसके पीछे जिम्मेदार है- सिर्फ एक व्यक्ति। 45 वर्षीय यह व्यक्ति पाॅजिटिव पाए जाने से 14 दिन पहले यानी 12 मार्च काे ओमान से लाैटा था। उसे हिदायत दी कि 14 दिन तक घर में ही क्वारैंटाइन में रहना। लेकिन वह नहीं माना और परिजनाें, मित्राें व रिश्तेदाराें से मिलता रहा। 25 मार्च से रामगंज और उसके आसपास के इलाके को सील कर दिया गया है। 7 मार्च से इस इलाके में सख्ती और बढ़ा दी है। 
जोधपुर में बुजुर्ग की मौत के बाद उन्हे अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया। प्रशासन ने ही उनका अंतिम संस्कार करवाया।

राजस्थान के 24 जिलों में कोरोना, आठ की मौत 

  • राजस्थान के 33 में से 24 जिलों में कोरोना के केस मिल चुके हैं। सबसे ज्यादा जयपुर में 170 पॉजिटिव मिल चुके हैं। जोधपुर 72 (इसमें 38 ईरान से आए), भीलवाड़ा में 28, झुंझुनूं में 31, टोंक में 27, चूरू में 11, प्रतापगढ़ में 2, डूंगरपुर में 5, अजमेर में 5, अलवर में 6, बीकानेर में 20, उदयपुर में 4, भरतपुर में 9, दौसा में 6, बांसवाड़ा में 24, पाली में 2, कोटा में 18, जैसलमेर में 31(इसमें 4 ईरान से आए), झालावाड़ में 12, करौली में 2, बाड़मेर, नागौर, धौलपुर और सीकर में एक-एक संक्रमित मिला है।
  • कोरोना से अब तक आठ लोगों की मौत हुई है। इनमें दो भीलवाड़ा, तीन जयपुर, एक बीकानेर, एक जोधपुर और एक कोटा में हो चुकी है। भीलवाड़ा में पहली मौत 73 वर्षीय बुजुर्ग की हुई थी। उसे कई अन्य गंभीर बीमारियां भी थीं। दूसरी मौत भी भीलवाड़ा में एक 60 साल के व्यक्ति की हुई। उसकी भी तबीयत ठीक नहीं थी। तीसरी मौत अलवर के रहने वाले 85 साल के बुजुर्ग की जयपुर में हुई। उन्हें ब्रेनहैमरेज था। चौथी मौत बीकानेर में 60 साल की महिला की हुई। वहीं पांचवी मौत जयपुर में 82 साल के बुजुर्ग की हुई। छठी मौत कोटा में एक 60 साल के बुजुर्ग की हुई। उन्हें निमोनिया की शिकायत थी। वहीं सातवीं मौत जोधपुर में 77 साल के बुजुर्ग की हुई। इसके बाद आठवीं मौत जयपुर के रामगंज में रहने वाली 65 साल की महिला की हुई।

क्या है भीलवाड़ा मॉडल, जिसे अब संक्रमण के ज्यादा केस मिलने वाले जिलों में लागू किया जाएगा

  • भीलवाड़ा कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने राज्य  सरकार के किसी सरकारी आदेश का इंतजार किए बगैर ही जिले की सभी को 20 चेकपोस्ट बनाकर सील कर दिया। राशन सामग्री की सप्लाई सरकारी स्तर पर करने व जिले के हर व्यक्ति की स्क्रीनिंग का फैसला किया। 
  • शहर में संक्रमण बांगड़ हाॅस्पिटल के डॉक्टर से फैला इसलिए सबसे पहले यह पता किया यहां कहां-कहां के मरीज आए। सूची निकलवाई ताे पता चला कि 4 राज्यों के 36 और राजस्थान के 15 जिलाें के 498 मरीज थे। इन सभी जिलाें के कलेक्टर काे एक-एक मरीज की सूचना देकर स्क्रीनिंग करवाई गई। 
  • छह पाॅजिटिव केस मिलते ही भीलवाड़ा में कर्फ्यू लगा दिया ताकि लोग घरों में रहें। बांगड़ अस्पताल में आने वाले मरीजों की स्क्रीनिंग शुरू की। 
  • छह हजार टीमें बना 25 लाख लोगों की स्क्रीनिंग शुरू करा दी। करीब 18 हजार लोग सर्दी-जुखाम से पीड़ित मिले। 1215 लाेगाें काे हाेम आइसाेलेट कर वहां कर्मचारी तैनात किए। करीब एक हजार संदिग्धों काे 20 हाेटलों में क्वारेंटाइन किया। 
  • नगर परिषद काे शहर के 55 ही वार्डाें में दाे-दाे बार दवाईयों का छिड़काव कराया। ताकि संक्रमण फैल न सके।
  • लाेगाें काे परेशानी नहीं हाे इसलिए सहकारी उपभाेक्ता भंडार से खाद्य सामग्री की सप्लाई शुरू कर दी। राेडवेज बस बंद करवा दी। दूध सप्लाई के लिए डेयरी काे सुबह-सुबह दाे घंटे खाेला गया। हर वार्ड में हाेम डिलीवरी के लिए दाे-तीन किराना की दुकानाें काे लाइसेंस दिए। कृषि मंडी काे शहर में हर वार्ड के अनुसार सब्जियां और फल सप्लाई के लिए लगाया गया।
उदयपुर में चार पॉजिटिव केस मिलने के बाद प्रशासन सख्त हो गया है, जिन इलाकों में केस मिले हैं। वहां कर्फ्यू लगा दिया गया है।

उदयपुर:  किडनी पेशेंट तक पहुंचाई मदद
लॉकडाउन में प्रशासन की मुस्तैदी और मानवीयता का रूप देखने को मिला। प्रशासन से एक किडनी पेशेंट ने दवा खत्म होने पर मदद की मांगी। इस पर पुलिस ने मौके पर पहुंच पूरे एहतियात के साथ मेडिकल तक लाए और जरूरी दवाएं दिलवाई। दरअसल, मल्ला तलाई के फारुक आजमनगर निवासी वकार हुसैन जिनका किडनी में इंफेक्शन का इलाज चल रहा था। दवा खत्म होने से काफी परेशान हुए। इस इलाके में कर्फ्यू होने से कहीं से मदद नहीं मिल पा रही थी। इस तरह बात एसपी कैलाश चंद्र विश्नोई तक पहुंची। इसके बाद उन्होंने पुलिसकर्मियों को उनके घर भेजा और उनकी मदद करवाई।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोरोना संक्रमण से कैदी की मौत, परिजनों का आरोप- अंतिम संस्कार के लिए निगम कर्मचारी को देने पड़े पैसे

Hindi NewsLocalMpJabalpurPrisoner Death Due To Corona Infection, Family Charges Money Paid To Corporation Employee For Funeralजबलपुर17 मिनट पहलेकॉपी लिंकपीडि़त परिवार ने आरोप लगाए कि...

NTA ने जारी की JNUEE 2020 एंट्रेंस एग्जाम की 'आंसर की', आज रात 10 बजे तक 'आंसर की’ को चैजेंल कर सकते हैं कैंडिडेट्स

Hindi NewsCareerNTA Releases 'Answer Key' For JNUEE 2020 Entrance Exam, Candidates Can Challenge 'Answer Key' Till 10 Pm Tonight5 घंटे पहलेकॉपी लिंकनेशनल टेस्टिंग एजेंसी...

मंत्री दंडोतिया बोले- दिमनी-अंबाह में कमलनाथ महिला के लिए अपशब्द बोलते तो उनकी लाश जाती

मुरैना/भोपाल21 मिनट पहलेगिर्राज दंडोतिया शिवराज सरकार में राज्यमंत्री हैं और दिमनी से उपचुनाव में भाजपा के प्रत्याशी हैं।कमलनाथ ने डबरा में शिवराज सरकार में...

बल्लेबाजी में हमारे खिलाड़ी हावी ; गेंदबाजी में विदेशियों का जलवा

Hindi NewsSportsIn Batting, Our Players Dominate, 11 Times Out Of 14 To Score 80+ Indians; Foreigners Thrive In Bowlingदुबई14 घंटे पहलेकॉपी लिंकलीग के चारों...