Home रोजगार कलात्मकता, सृजनशीलता व चुनौतियों से भरा है सिविल इंजीनियरिंग का क्षेत्र

कलात्मकता, सृजनशीलता व चुनौतियों से भरा है सिविल इंजीनियरिंग का क्षेत्र

हलचल टुडे

Mar 25, 2020, 12:44 PM IST

एजुकेशन डेस्क. सिविल इंजीनियरिंग का इतिहास मानव सभ्यता जितना ही प्राचीन है। आदि मानव या आधुनिक मानव की जो भी आवश्यकताएं हैं, उनमें सिविल इंजीनियरिंग का योगदान है। रहने के लिए घर, आवागमन के लिए सड़क, हवाई अड्‌डा, बंदरगाह, रेलवे। बाढ़ से बचने एवं सिचाई के लिए बांध व नहरे, पीने एवं अन्य उपयोग के लिए जलप्रदाय, कचरा निस्तारण एवं उपयोग अर्थात मानव सभ्यता के लिए आवश्यक प्रत्येक अधिसंरचना में सिविल इंजीनियरिंग का उपयोग होता है। सिविल इंजीनियर का कार्य मानव की आवश्यकता का आंकलन करके विभिन्न परियोजनाओं की परिकल्पना, डिजाइन, प्राक्कलन, निर्माण उपरांत उनके रखरखाव एवं उपयोग करने तक होता है।

रोजगार के कई अवसर 
सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए देश में आईआईटी, एनआईटी सहित राज्यों के कई संस्थान हैं। सिविल इंजीनियरिंग करने के बाद इस क्षेत्र में रोजगार की अनेक संभावनाएं सरकारी, अर्ध सरकारी एवं गैर सरकारी क्षेत्र में हैं। देश-दुनिया की आबादी की आवश्यकताओं को देखते हुए सिविल इंजीनियरिंग की जरूरत मानव सभ्यता तक बनी हुई है। सिविल इंजीनियरिंग का छात्र निर्माण क्षेत्र में अपना व्यवसाय शुरू कर सकता है। 

विदेश में पाएं उच्च शिक्षा 
सिविल इंजीनियरिंग करने के बाद छात्र गेट परीक्षा देकर पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन ले सकता है। साथ ही अन्य सरकारी, सार्वजनिक सेक्टर में नौकरी पा सकते हैं। जीआरई देकर विदेशों में उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं। विभिन्न राष्ट्रीय व राज्यस्तरीय परीक्षा के माध्यम से प्रशासनिक व इंजीनियर पदों पर सेवाएं देने का अवसर मिलता है। सिविल इंजीनियरिंग का क्षेत्र कलात्मकता, सृजनशीलता एवं चुनौतियों से भरा है। इस क्षेत्र में विद्यार्थी जीवन के विभिन्न आयामों से रुबरू होते हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

बाइडेन चुनाव जीते तो इकोनॉमी बड़ा चैलेंज होगा, उन्हें इन्फ्रास्ट्रक्चर बेहतर करना होगा

वॉशिंगटन10 मिनट पहलेलेखक: पॉल क्रुगमैनकॉपी लिंकअमेरिका में तीन नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव हैं। मुकाबला राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और डेमोक्रेट कैंडिडेट जो बाइडेन के बीच...

हिंदू सेना ने सूचना प्रसारण मंत्री को सौंपा पत्र, कहा-टाइटल नहीं बदला तो रिलीज नहीं होने देंगे फिल्म

26 मिनट पहलेकॉपी लिंकअक्षय कुमार और कियारा आडवाणी की अपकमिंग फिल्म 'लक्ष्मी बॉम्ब' रिलीज से पहले विवादों में आ गई है। हिंदू सेना ने...

मतदान के पहले मप्र के मंत्री सिलावट को छोड़ना पड़ा पद, बोले- पद मेरे लिए महत्वपूर्ण नहीं; पहले भी विधायकी और मंत्री पद छोड़...

Hindi NewsLocalMpIndoreTulsi Silawat Resignation Update | Madhya Pradesh Minister Tulsi Silawat Submits His Resignation To Shivraj Singh Chouhanइंदौर23 मिनट पहलेकॉपी लिंकभाजपा प्रत्याशी तुलसी सिलावट...