Home रोजगार बिना किताबों के भी घर में बहुत कुछ सीखा जा सकता है,...

बिना किताबों के भी घर में बहुत कुछ सीखा जा सकता है, टीवी- मूवी और जीवन के उदाहरण से दे बच्चों को सीख

हलचल टुडे

Apr 09, 2020, 11:44 AM IST

शिक्षा का प्रमुख उद्देश्य सीखने की प्रक्रिया को रोचक और अर्थपूर्ण बनाना है। अत: जरूरी नहीं कि उसकी प्राप्ति चार दीवारों वाली कक्षा में ही हो। खासकर वर्तमान में निर्मित परिस्थतियों की बात करें तो यह मजबूरी भी है और वरदान भी।

मजेदार तरीकें से सिखाएं विज्ञान और गणित

लॉकडाउन की वजह से स्कूल नहीं खुल रहे हैं। बच्चों का मन पढ़ने में भी नहीं लग रहा। ऐसे में आप उन्हें बहुत कुछ घर बैठे खेल-खेल में बहुत कुछ सिखा सकते हैं। मुख्यत: दो विषय हैं, जिन्हें सीखना जरूरी है विज्ञान और गणित। इन्हीं दो को सीखने के लिए किसी माध्यम यानी कि भाषा का इस्तेमाल होगा। हमारे आसपास जो भी उपलब्ध है, वह विज्ञान है उसे नापने के लिए गणित की आवश्यकता है। जानिए, घर बैठे आप बच्चों को किस किस तरह का ज्ञान दे सकते हैं, जिसे वे मनोरंनात्मक तरीके से लेंगे।

विज्ञान की बात

वनस्पति विज्ञान सिखाने का भी यह सही मौका है। बच्चों को इस विधा में विभिन्न तरह के बीज बोना सिखाएं। इस समय घर में मौजूद मैथीदाना, धनिया, राई को छोटे छोटे पॉट्स में बच्चों को बोना बताएं और उनकी देखभाल करने का भी बोलें। इससे उनकी रुचि वनपस्ति विज्ञान की तरफ बढ़ेगी और वे बेहतर तरीके से जीवन विज्ञान भी सीखेंगे।

बढ़ाएं भाषा ज्ञान

इसी तरह रसोईघर में मौजूद सामग्री की लिस्ट बनाकर उनके हिंदी अंग्रेजी नाम पता करें और लेबल बना लें। उन्हें सरल विधियां बताकर खाना पकाने दें। शब्दकोश की मदद से शब्दों की अंताक्षरी शब्द श्रृंखला पर्यायवाची शब्द आदि खोजने के लिए प्रोत्साहित करें। इसी तरह भाषा ज्ञान बढ़ाने के लिए गुणवत्ता भरे ऑडियो-वीडियो सुनें और देखें।

टीवी, मूवी से सीख

अब अगर बात किताब पढ़ने की ही आए तो उसे न सिर्फ पढ़ें बल्कि बच्चों से कहें कि वे उसका रिव्यू भी लिखें। उसी तरह प्रेरणास्पद मूवी देखकर वे मूवी रिव्यू लिखें या उस पर चर्चा करें। राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय खेलों की जानकारी हासिल की जा सकती है। टेलीविजन पर कोई मैच की सीरीज देखकर उन्हें अपनी राय देने को कहें।

खेल-खेल में

छोटे बच्चों को गणित संबंधी पाठ खेल-खेल में समझाए जाएं। लूडो, सांप-सीढ़ी, कैरम और अन्य पहेलियों से अंकों का ज्ञान करवाएं। शहर के वार्ड, जोन व क्षेत्र की जानकारी देकर बच्चों की रुचि उनके अपने शहर के प्रति बढ़ाई जा सकती है। उनका समाजिक विज्ञान बढ़ेगा। उन्हें काल्पनिक परिस्थतियां बताएं और उन पर प्रतिक्रिया देने को कहें।

जीवन के उदाहरण

बच्चों को असल जिंदगी के उदाहरणों से बड़ी आसानी से तथ्य सिखाए जा सकते हैं। छोटी उम्र के बच्चों को कहानियों के माध्यम से बहुत सी बातें समझाई जा सकती हैं। इस चर्चा में दादा जी के बचपन, आपके बचपन और आज के समय में उपलब्ध सुविधाएं, वस्तुओं के मूल्य और अन्य विकसित उपकरणों की बात की जा सकती है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

चीन से लद्दाख में सैन्य टकराव के बीच भारत-अमेरिका में 2+2 डायलॉग; इसके मायने, अहमियत और फायदे

7 घंटे पहलेलेखक: रवींद्र भजनीकॉपी लिंकअमेरिकी विदेश मंत्री ने गलवान में 20 भारतीय सैनिकों की शहादत को याद किया, कहा- हम भारत के साथभारत...

बर्थडे बॉय वॉर्नर और साहा ने लगाई फिफ्टी; राशिद ने लिए 3 विकेट, 4 ओवर में 17 डॉट बॉल फेंकी

दुबई28 मिनट पहलेकॉपी लिंकIPL के 13वें सीजन में मंगलवार को सनराइजर्स हैदराबाद ने दिल्ली कैपिटल्स को बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग तीनों डिपार्टमेंट में फेल...

म्यूजिक लवर्स के लिए जल्द लॉन्च होंगे एंट्री लेवल एयरपॉड्स, नया स्मार्ट स्पीकर और हेडफोन भी लाएगी

Hindi NewsTech autoApple Working On Entry Level AirPods For H1 2021, Next Gen AirPods Pro: Reportनई दिल्ली14 घंटे पहलेकॉपी लिंकएपल अपनी न्यू आईफोन 12...

राहत पैकेज को लेकर वित्त मंत्री के साथ प्रधानमंत्री मोदी की बैठक अब से कुछ देर में

Hindi NewsBusinessNarendra Modi News; Narendra Modi Finance Minister Nirmala Sitharaman Meeting On Relief Packageमुंबई6 घंटे पहलेकॉपी लिंकप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जल्द ही अहम बैठक...