Home वीमेन सलमा कुरैशी ने संस्कृत में की पीएचडी, इसी विषय में प्रोफेसर बनने...

सलमा कुरैशी ने संस्कृत में की पीएचडी, इसी विषय में प्रोफेसर बनने का देखती हैं सपना

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

40 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • उन्होंने 2017 में पीएचडी की रिसर्च के लिए दाखिला लिया था। सलमा की बड़ी बहन भी इसी विषय में पीएचडी कर रही हैं
  • भावनगर यूनिवर्सिटी से एम ए में उन्हें गोल्ड मेडल मिला था। पीएचडी कंप्लीट करने में सलमा को तीन साल लगे

सलमा कुरैशी गुजरात यूनिवर्सिटी की मुस्लिम स्टूडेंट है। उन्होंने संस्कृत में पीएचडी की है। इस यूनिवर्सिटी से पीएचडी करने वाली वे पहली मुस्लिम महिला हैं। उन्हें गीता, पुराण और हिंदी धर्मशास्त्र बचपन से पढ़ना अच्छा लगता था। इसलिए स्कूल के दिनों में ही संस्कृत उनका प्रिय विषय था। उन्होंने 2017 में पीएचडी की रिसर्च के लिए दाखिला लिया था। सलमा की बड़ी बहन भी इसी विषय में पीएचडी कर रही हैं। भावनगर यूनिवर्सिटी से एम ए में उन्हें गोल्ड मेडल मिला था। पीएचडी कंप्लीट करने में सलमा को तीन साल लगे।

सलमा कहती हैं -”मेरी दिलचस्पी संस्कृत में देखते हुए घर के लोगों ने कभी इस विषय को लेकर कोई एतराज नहीं किया। उन्होंने हमेशा मेरा साथ दिया। हालांकि हिंदू धर्म के अधिकांश स्कल्पचर संस्कृत में होने की वजह से इसे इसी धर्म से जोड़ा जाता है। लेकिन मेरा मानना है कि भाषा का संबंध किस धर्म से नहीं होता। किसी भी स्टूडेंट को उसकी रुचि के अनुसार भाषा चुनने का हक है”।

सलमा को इस बात का अफसोस है कि आज के एजुकेशन सिस्टम में पुराने जमाने की तरह टीचर्स को वो इज्जत नहीं दी जाती, जिसकी वे हकदार हैं। उनका कहना है कि संस्कृत को एक अनिवार्य भाषा के तौर पर स्कूलों में लागू करना चाहिए।

Source link

Most Popular

क्रिसमस डे पर चर्च पहुंचे पीएम मोदी? एक साल पुरानी फोटो गलत दावे से वायरल

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपएक महीने पहलेकॉपी लिंकक्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर...

दतिया-शिवपुरी के बाद जौरा में भी मिले 2 मृत कबूतर, जांच के लिए भोपाल भेजा दोनों का बिसरा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपमुरैना/जौरा13 दिन पहलेकॉपी लिंकजौरा में मृत मिले कबूतर।दतिया-शिवपुरी व श्योपुर के...

चंंबल वाटर प्रोजेक्ट, उसैद घाट पुल व आसन बैराज के लिए बजट नहीं, अप्रैल में मिला तो सितंबर में काम शुरू होगा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपमुरैना13 दिन पहलेकॉपी लिंकचंबल नदी, जहां मुरैना तक पानी पहुंचाने बनाया...