Home हैप्पी लाइफ अमेजन के जंगलों में पहुंचा कोरोना, यानोमामी जनजाति समूह में पहली मौत;...

अमेजन के जंगलों में पहुंचा कोरोना, यानोमामी जनजाति समूह में पहली मौत; 15 वर्षीय लड़के की दूसरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

  • 3 अप्रैल को सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, गले में सूजन और बुखार की शिकायत हुई थी
  • आनन-फानन में हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया लेकिन पहली रिपोर्ट निगेटिव थी 

हलचल टुडे

Apr 11, 2020, 06:07 PM IST

साओ पाउलो. कोरोनावायरस अमेजन के जंगलों भी पहुंच गया है। ब्राजील और वेनेजुएला के बॉर्डर पर रहने वाली यानोमामी जनजाति समूह में पहली मौत हुई है। 15 साल के लड़के की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। 3 अप्रैल को उसके सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, गले में सूजन और बुखार की शिकायत हुई थी। स्थानीय अस्पताल में भर्ती करने के बाद शुरुआत जांच निगेटिव आई लेकिन दूसरी जांच पॉजिटिव आई और कोरोनावायरस की पुष्टि हुई। कुछ मीडिया रिपोर्ट में इसी जनजाति के 7 और लोगों के संक्रमित होने की बात कही गई है लेकिन आधिकारिक तौर पर इस जनजाति के 15 साल के लड़के में संक्रमण के बाद मौत का पहला मामला है।

महामारी घोषित होने के बाद वह स्कूल से घर लौटा था
ब्राजील के ग्लोबो न्यूजपेपर के मुताबिक, देश में महामारी घोषित होने के बाद वह स्कूल से म्यूकेजई नदी के पास अपने घर पहुंचा थ। तबियत खराब होने पर उसे स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। साओ पाउलो की फेडरल यूनिवर्सिटी की शोधकर्ता डॉ. सोफिया मेन्डॉन्का के मुताबिक, अब कोरोनावायरस ब्राजील के आदिवासी समुदाय की तरफ बढ़ रहा है। 

यानोमामी जनजाति की एक बड़ी आबादी ब्राजील और वेनेजुएला के बॉर्डर पर रहती है।

यानोमामी जनजाति के 200 गांव हैं
ब्राजील में 200 ऐसे गांव हैं जहां यानोमामी जनजाति रहती है। ब्राजील के मेडिकल एक्सपर्ट का कहना है कि अब कोरोनावायरस का खतरा यहां के मूल निवासी जैसे यानोमामी जनजाति के लोगों को है। इस संकट के बारे में कुछ भी कहा नहीं जा सकता। ब्राजील में अब तक कोरोनावायरस के 18,176 मामले सामने आ चुके हैं और 957 मौतें हो चुकी हैं।

यानोमामी जनजाति एक गांव। तस्वीर साभार : रायटर

पहली कोरोना पॉजिटिव महिला
ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, अप्रैल की शुरुआत में अमेजन के वर्षावन में कोरोना का पहला मामला एक महिला में सामने आया था। उसकी उम्र 20 साल है और वह कोकामा जनजाति से ताल्लुक रखती है। यह जनजाति कोलम्बिया बॉर्डर से 880 किलोमीटर ऊंचाई पर रहती थी। 

कौन है यानोमामी जनजाति के लोग
इस जनजाति के बारे में पहली बार 1940 में पता चला था जब ब्राजील सरकार ने वेनेजुएला से सीमा रेखा तय करने के लिए अपनी टीम भेजी थी। इस जनजाति के लोग बाहरी दुनिया से सम्पर्क नहीं रखना चाहते हैं। इसकी सबसे ज्यादा संख्या ब्राजील और वेनेजुएला बॉर्डर पर है। ऐसा कहा जाता है कि ये जनजाति एशिया और अमेरिका से करीब 15 हजार साल पहले यहां आई थी। 

यानोमामी जनजाति के बारे में पहली बार 1940 में पता चला था।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कोरोना पर ऐसा क्या हुआ जो मोदी को 12 मिनट के संदेश में हाथ जोड़ने पड़े? 5 पॉइंट्स

Hindi NewsDb originalExplainerNarendra Modi Speech Explained | Coronavirus Vaccine India Research Update; Key Takeaways From Pm Modi's Address To Nation15 मिनट पहलेलेखक: रवींद्र भजनीकॉपी...

युवराज सिंह ने बताया गेम चेंजर, बोले- IPL में पंजाब का लगातार 3 मैच जीतना खतरे की घंटी

नई दिल्लीएक घंटा पहलेकॉपी लिंकदिल्ली के खिलाफ निकोलस पूरन ने 28 बॉल पर 53 रन की शानदार पारी खेली थी। अपनी पारी में उन्होंने...

सकारात्मक सोच के साथ ही बड़ी सफलता मिल सकती है, अच्छे लोगों के साथ रहने से दूर होती है नकारात्मकता

Hindi NewsJeevan mantraDharmMotivational Story About Positive Thinking, How To Think Positive, Inspirational Story About Thinking Positive, Story Of King And His Son, Raja Ki...

फेसबुक ला रहा है नया फीचर, पड़ोसियों के साथ कनेक्ट होने में करेगा मदद

Hindi NewsBusinessFacebook Neighborhoods Feature: Here's Updates From Social Media Consultant Matt Navarraनई दिल्ली6 मिनट पहलेकॉपी लिंकफेसबुक इस फीचर के जरिए मार्केट लीडर नेक्स्टडोर को...