Home हैप्पी लाइफ मॉडर्ना की वैक्सीन से बनी एंटीबॉडीज शरीर में 3 महीने तक रहती...

मॉडर्ना की वैक्सीन से बनी एंटीबॉडीज शरीर में 3 महीने तक रहती हैं, दावा; यह वैक्सीन 94% तक असरदार

  • Hindi News
  • Happylife
  • Coronavirus Vaccine Antibodies; | US Biotechnology Company Moderna’s Vaccine Produces Antibodies In Body

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप

5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिसीज ने 34 वॉलंटियर्स को दी वैक्सीन
  • वॉलंटियर्स को मॉडर्ना की वैक्सीन mRNA-1273 के दो इंजेक्शन दिए गए

हालिया रिसर्च में यह साबित हुआ है कि अमेरिकी कम्पनी मॉडर्ना की वैक्सीन से शरीर में पॉवरफुल एंटीबॉडीज बनती हैं। यह शरीर में कम से कम 3 महीने तक रहती हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिसीज ने 34 वयस्कों को यह वैक्सीन देकर रिसर्च की। रिसर्च में सामने आया कि वैक्सीन देने के बाद इम्यून सिस्टम इतनी एंटीबॉडीज तैयार करता है जो अगले तीन महीने तक बरकरार रहती हैं।

इम्यून रेस्पॉन्स देखा गया

न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में पब्लिश रिसर्च के मुताबिक, मॉडर्ना की वैक्सीन mRNA-1273 को दो इंजेक्शन के रूप में दिया गया। रिसर्च के दौरान वॉलंटियर्स को वैक्सीन देने के बाद उनके इम्यून रेस्पॉन्स का अध्ययन किया गया।

एक्सपर्ट कहते हैं, अगर समय के साथ एंटीबॉडीज खत्म हो जाती हैं तो दोबारा वायरस का संक्रमण होने पर इम्यून सिस्टम वापस एंटीबॉडीज बनाता है। इससे पहले सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक, यह वैक्सीन कोरोना से बचाने में 94 फीसदी तक असरदार साबित हो चुकी है।

इमरजेंसी अप्रूवल की तैयारी
मॉडर्ना ने हाल ही में कहा था, वह अमेरिकन और यूरोपियन कंट्रोल से अपील करेगा कि कोरोना की इस वैक्सीन को इमरजेंसी स्थिति में देने की परमिशन दें। 17 दिसम्बर को एडवाइजरी कमेटी वैक्सीन का रिव्यू करेगी। इसके बाद ही मॉडर्ना को फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन का अप्रूवल मिल सकेगा।

मरीजों का आंकड़ा 96.09 लाख पहुंचा

देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 96 लाख के पार हो गया। अब तक 96 लाख 9 हजार 519 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 4 लाख 8 हजार 401 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि 90 लाख 59 हजार 561 लोग ठीक हो चुके हैं। संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या अब 1 लाख 39 हजार 745 हो गई है। ये आंकड़े covid19india.org से लिए गए हैं।

ये भी पढ़ें

Source link

Most Popular

2020 में विनिवेश के जरिए फंड जुटाने में 37% की कमी, इस साल अब तक 42,871 करोड़ रुपए जुटाए गए

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपनई दिल्ली21 दिन पहलेकॉपी लिंक2020 में सरकार ने सेंट्रल पब्लिक सेक्टर...

'मंटो', 'नीरजा' से लेकर 'छपाक' तक, हॉटस्टार, नेटफ्लिक्स समेत इन ओटीटी प्लेटफॉर्म पर देखी जा सकती हैं असल जिंदगी पर आधारित फिल्में

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐप25 दिन पहलेकॉपी लिंकओटीटी प्लेटफॉर्म पर फिल्में देखने का चलन तेजी...

बाघों के बाद अब पहली बार शावक संग कैमरे में कैद तेंदुआ मां

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें हलचल टुडे ऐपभोपाल8 दिन पहलेकॉपी लिंकशावक और तेंदुआ मां की तस्वीर70 से अधिक...